#BSEB: इंटर कंपार्टमेंटल परीक्षा की तारीख समेत कई बड़े ऐलान, ….जानिए

बिहार बोर्ड के बारहवीं के नतीजों में हुई गड़बड़ियों को लेकर मचे हंगामा के बीच बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड के चेयरमैन आनंद किशोर ने मंगलवार को पटना में कई बड़े ऐलान किये।

बिहार में इंटर की कंपार्टमेंटल परीक्षा 3 से 13 जुलाई तक ली जायेगी। इसके लिए 8 से 14 जून तक आॅनलाइन फॉर्म जमा होगा। बिहार बोर्ड के अनुसार जो परीक्षार्थी अधिकतम दो विषयों में फेल हुए हैं, वही यह परीक्षा दे पायेंगे। कंपार्टमेंटल परीक्षा में वे विद्यार्थी भी शामिल हो सकेंगे, जिनका रजिस्ट्रेशन तो 2017 इंटर परीक्षा के लिए हुआ था, लेकिन परीक्षा फाॅर्म नहीं भरने के कारण परीक्षा में शामिल नहीं हो पाये थे। ऐसे विद्यार्थी सारे विषयों की परीक्षा में शामिल होंगे।

मालूम हो कि इंटर परीक्षा के लिए लगभग 14 लाख परीक्षार्थियों का रजिस्ट्रेशन हुआ था, लेकिन ढाई लाख परीक्षार्थी फाॅर्म नहीं भर पाये थे। पहली बार बिहार बोर्ड ने अंकपत्र और प्रमाणपत्र पर ‘कंपार्टमेंटल’ दर्ज नहीं करने का फैसला लिया है। बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि इस बार कंपार्टमेंटल परीक्षा को स्पेशल एग्जाम के तौर पर लिया जा रहा है। ऐसे में प्रमाणपत्र पर कंपार्टमेंटल नहीं लिखा रहेगा। इसका फायदा छात्रों को बाद में नामांकन लेने में होगा।

कॉपियों की स्क्रूटनी 9 जून से
बोर्ड अध्यक्ष ने बताया कि इंटर परीक्षा की कॉपियों की स्क्रूटनी 9 जून से शुरू होगी। उन्होंने यह भी बताया कि इंटर परीक्षा में कम अंक लाने वाले परीक्षार्थियों से अभी स्क्रूटनी का आॅनलाइन और ऑफलाइन आवेदन लिया जा रहा है। आवेदन की प्रक्रिया 12 जून तक चलेगी।

अब स्कूटनी के लिए 120 की बजाय 70 रु. ही लगेंगे
बोर्ड अध्यक्ष ने बताया कि बोर्ड द्वारा स्कूटनी के फीस में कटौती की गई है। जहां प्रति विषय छात्रों को ₹120 देने होते थे वहां अब केवल ₹70 प्रति विषय छात्रों को देना होगा। इसके अलावा जो छात्र स्कूटनी के लिए आवेदन कर चुके हैं। उन्हें अब तक ₹120 का भुगतान करना पड़ा है। उनका पैसा भी वापस कर दिया जाएगा।

पढ़े :   CBSE का बड़ा फैसला: 10वीं में फिर बोर्ड परीक्षाएं, अगले साल से देनी होगी परीक्षा

पहले कंपीटिटिव परीक्षा पास का रिजल्ट
स्कूटनी का काम सबसे पहले उन कंपीटीटीव परीक्षा में बैठे छात्रों को किया जाएगा, जिससे छात्रों को नामांकन कराने में कोई परेशानी ना हो।

30 जून तक परिणाम
सभी छात्रों का स्कूटनी 30 जून तक पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

15 से 20 जून के बीच आएगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट
मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट 15 से 20 जून के बीच आ जाएगा। बोर्ड अध्यक्ष ने मंगलवार को यह घोषणा की।

फर्जीवाड़े पर रोक के लिए विशेष तैयारी
बोर्ड के अध्यक्ष अध्यक्ष आनंद किशोर ने सबसे महत्वपूर्ण बात यह बताया कि बोर्ड डी डुप्लीकेशन सॉफ्टवेयर डेवलप करने की योजना बना रही है। जिसके लिए बोर्ड द्वारा पूर्व छात्रों के डाटा को ऑनलाइन की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है।

इस प्रक्रिया में 2005 से अब तक के छात्रों के डाटा को ऑनलाइन कर दी गई है। 1986 से 2004 तक के सभी छात्रों के डाटा को ऑनलाइन करने के लिए 4 महीने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

इसके बाद दी डुबलीकेशन सॉफ्टवेयर डेवलप करने की तैयारी प्रारंभ कर दी जाएगी। इस सॉफ्टवेयर की खूबियों में उन्होंने यह बताया कि जो परीक्षार्थी दोबारा नाम, पता, उम्र और पिता का नाम बदलकर परीक्षा देते हैं उन पर नकेल रखा जा सकेगा।

Live Bihar News

Our Goal is to Bring Important News, Photos and Information to the Public By Using Social Media, News Paper and E-News.

Leave a Reply

error: Content is protected !!