यह भी है एक ‘पाकिस्तान’, यहां शान से फहराता तिरंगा, और जहां दिलों में बसता हिंदुस्तान

एक पाकिस्तान ऐसा भी है, जहां हर स्वतंत्रतता दिवस व गणतंत्र दिवस के अवसर पर तिरंगा शान से फहराता है। आपको जानकर हैरत होगी कि हमने भारत में एक ‘पाकिस्तान’ ढूंढ़ लिया है। उस पाकिस्तान के लिए न वीज़ा लगता है, न पासपोर्ट। जहां लोगों के दिल में हिंदुस्तान बसता है। इस ‘पाकिस्तान’ में आतंक के लिए कोई जगह नहीं।

खास बात यह भी है कि इस पाकिस्तान में एक भी मुसलमान नहीं रहता। जाहिर है, यहां एक भी मदरसा व मस्जिद नहीं है। भगवान राम की पूजा होती है।

ये पाकिस्तान बिहार में है। पूर्णिया से 30 किलोमीटर दूर सिंघिया पंचायत का छोटा सा गांव।

ऐसे पड़ा इस गांव का नाम
इस गांव का नाम पाकिस्तान कैसे पड़ा, इसके दो किस्से हैं :-
इस गांव ‘पाकिस्तान टोला’ का नाम कब और कैसे पड़ा, इस बाबत गांव के बुजुर्गों ने बताया कि भारत विभाजन के समय 1947 में यहां रहने वाले अल्पसंख्यक परिवार पाकिस्तान चले गए। इसके बाद गांव का नाम लोगों ने ‘पाकिस्तान टोला’ रख दिया।
गांव के नामकरण की दूसरी कहानी 1971 भारत-पाक युद्ध से जुड़ी है। कहा जाता है कि युद्ध के वक़्त पूर्वी पाकिस्तान से कुछ शरणार्थी यहां आए और उन्होंने एक टोला बसा लिया। इन शरणार्थियों ने टोला का नाम पाकिस्तान रखा। बांग्लादेश बनने के बाद वे फिर चले गए, लेकिन इलाके का नाम ‘पाकिस्तान टोला’ ही रह गया।

रोटी व परिवार तक सिमटी जिंदगी
कालांतर में यहां आदिवासी बसते गये। वर्तमान में गांव में संथालों के करीब तीन दर्जन परिवार रहते हैं। मुख्य धारा से कटे गांव की आबादी अशिक्षित है। इन लोगों को केवल अपने घर-परिवार व इलाके की फिक्र है। दो जून की रोटी के जुगाड़ व गांव-परिवार तक सिमटी इनकी जिंदगी में आतंकवाद व हिंसा के लिए कोई जगह नहीं।

पढ़े :   11वे दिन अनशन: जिला प्रशासन सोये कुम्भकर्णी नींद, एक भी अनशनकारी मरा तो होगी मुश्किल

मूलभूत सुविधाओं का अभाव
पूर्णिया के इस ‘पाकिस्तान टोला’ की याद नेताओं को केवल चुनाव के समय आती है। यहां करीब 170 वोटर हैं। ग्रामीण गोसा मुर्मु कहते हैं, ”नेता लोग वोट के समय वायदे करते हैं, लेकिन इससे क्या फासदा। हमारी झोपडि़यां देखिए। पानी, बिजली और सड़क भी नहीं।”

लाेग चाहते विकास
गांव विकास से कोसों दूर है। चार नदियों से घिरे इस गांव की हालत पहले टापू की तरह थी। करीब पांच साल पहले पुल बना तो अब लोग यहां आ-जा पाते हैं। एक कच्ची सड़क आवागमन का सहारा है। यहां स्कूल व अस्पताल भी नहीं हैं।

गांव तक जाने वाली यह सड़क ऐसी है कि बैलगाड़ी को भी मुश्किल हो। शायद यही कारण है कि यहां नेता व अधिकारी नहीं आते। ऐसे में ग्रामीण जद्दू टुडु का सवाल मौजूं है कि लोग तो विकास चाहते हैं, लेकिन यह हो कैसे?

करते भगवान राम कर पूजा
पाकिस्तान टोला नाम तो है, लेकिन यहां मुसलमान आबादी नहीं है। जाहिर है कि गांव में मस्जिद व मदरसा नहीं है। यहां के आदिवासी श्रीराम की पूजा करते हैं। इनका मुख्य त्योहार बंधना जनवरी में आता है। गांव के लोगों के अपने देवता (गोसाई) हैं, जिनकी पूजा के लिए सभी एक जगह इकट्ठा होते हैं। फिर नृत्य-संगीत का दौर चलता है।

नहीं जानते पाकिस्तान की करतूत
विकास की रोशनी से दूर यहां के भोले-भाले ग्रामीण आतंकवाद का नाम तक नहीं जानते। वे उउ़ी में पाकिस्तान समर्थित हालिया आतंकी हमले तथा इसके बाद सेना द्वारा पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक से भी अनभिज्ञ हैं।

पढ़े :   लालू के 'कन्हैया' पर मोदी मेहरबान, मिली 'वाई' श्रेणी की सुरक्षा

गांव के बुजुर्ग सुफोल हांसदा को जब पाकिस्तान की करतूत के बारे में बताया गया तब उन्हें दुख पहुंचा।

नाम के कारण होती परेशानी
गांव के लोग समाज की मुख्य धारा से कटे हुए हैं। इनकी अपनी ही दुनिया है। लेकिन, जब कभी बाहरी दुनिया से संपर्क होता है, इन्हें गांव के नाम के कारण परेशानी होती है। ग्रामीणों के अनुसार उन्हें अपना पता बताने में कभी-कभी बड़ी परेशानी होती है।

टूट जाते रिश्ते
गांव के एक युवक ने अपना दर्द बयां किया। गांव के नाम के कारण दो साल से उसका रिश्ता टूट जा रहा है। बुजुर्गों ने भी बताया कि गांव के नाम के कारण शादी-व्याह में परेशानी होती है। अधिकांश रिश्ते तो गांव के नाम के कारण टूट जाते हैं। कोई अपने बेटे-बेटी का विवाह ‘पाकिस्तान’ मे करना नहीं चाहता।

Share this:

Our Goal is to Bring Important News, Photos and Information to the Public By Using Social Media, News Paper and E-News.

Live Bihar News

Our Goal is to Bring Important News, Photos and Information to the Public By Using Social Media, News Paper and E-News.

Leave a Reply

error: Content is protected !!