प्रकाशोत्सव: पीएम मोदी व नीतीश ने खूब की एक दूसरे की तारीफ, लाइम लाइट से बेटों समेत दूर रहे लालू

गुरु गोविंद सिंह महाराज के 350वें प्रकाशोत्सव में भाग लेने पटना पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम नीतीश कुमार ने गुरुवार को मंच से एक दूसरे की खूब तारीफ की।

मोदी ने कहा कि नीतीश ने शराबबंदी का फैसला लेकर ऐसा काम करने की हिम्मत दिखाई है, जिसे करने से पहले कई लोग डर जाते हैं। इस मुद्दे पर बाकी राज्य अब बिहार से सीखेंगे। इससे पहले, नीतीश ने कहा कि जब मोदी गुजरात के सीएम थे, तभी उन्होंने शराबबंदी सख्ती से लागू किया था। बता दें कि इससे पहले नीतीश ने मोदी के नोटबंदी के फैसले को सराहा था।

मोदी ने कहा- नीतीश की शराबबंदी में मदद करें…
मोदी ने कहा- “नीतीश ने शराबबंदी का फैसला लेकर ऐसा काम करने की हिम्मत दिखाई है, जिसे करने से पहले कई लोग डर जाते हैं। नशामुक्ति के लिए जिस प्रकार अभियान चला है मैं नीतीश का अभिनंदन करता हूं। उन्होंने आने वाली पीढ़ियों को बनाने का बीड़ा उठाया है। मैं पूरे बिहार के लोगों से गुजारिश करता हूं कि शराबबंदी में सहयोग दें। यह अकेले नीतीश जी या फिर बिहार सरकार का काम नहीं है। यह तब ही सफल हो सकती है जब जनता इसमें सहयोग दे। मुझे विश्वास है कि नीतीश ने जो जोखिम उठाया है उसमें वे सफल होंगे। शराबबंदी के बाद बिहार और तेजी से आगे बढ़ेगा और देश की तरक्की में बढ़-चढ़कर अपना योगदान देगा। बाकी राज्य अब बिहार से सीखेंगे।”

और क्या कहा मोदी ने..
मोदी ने कहा- “महात्मा गांधी के चंपारण आंदोलन की शताब्दी मनाने का सुझाव दिया है। समाज सुधार का काम कठिन होता है। नीतीश जी ने समाज सुधारने का बीड़ा उठाया है।”

नीतीश ने कहा – जब वे गुजरात के CM थे, तब सख्ती से शराबबंंदी की…
नीतीश कुमार ने कहा – “मोदी जब गुजरात के सीएम थे तब उन्होंने यह फैसला लिया था। मेरा मानना है कि जब हमारा देश शराब से मुक्त हो जाएगा तो और तेजी से तरक्की करेगा। इस मौके पर उन्होंने पटना साहिब में गुरु के बाग के पास एक नया पार्क बनाने का एलान किया। इसके अलावा नीतीश ने बताया कि राज्य सरकार सिख धर्म से जुड़े स्थलों को डेवलप करेगी और उन्हें जोड़कर एक सिख सर्किट बनाएगी।”

पढ़े :   मायावती ने राज्यसभा की सदस्यता से दिया इस्तीफा, ...जानिए

वहीँ दूसरी तरफ लाइम लाइट से बेटों समेत दूर रहे लालू…
गांधी मैदान में हो रहे कार्यक्रम के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी सीएम और एनडीए के पुराने सहयोगी नीतीश कुमार के जहां काफी करीब दिखे तो लालू और उनका परिवार यानि दोनों बेटे पीएम से काफी दूर दिखे। गांधी मैदान में पीएम और सीएम काफी देर तक गुफ्तगू करते दिखे तो दोनों के चेहरे पर कई बार एक साथ मुस्कान भी देखने को मिली। इससे पहले एयरपोर्ट पर नरेंद्र मोदी की आगवानी के लिये जहां सीएम नीतीश कुमार मौजूद रहे वहीं डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव और स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप दोनों एयरपोर्ट से नदारद दिखे।

एयरपोर्ट के अलावा गांधी मैदान स्थित मुख्य पंडाल के मंच से भी राजद सुप्रीमो समेत उनके पुत्र गायब दिखे। मंच पर जगह की तो कमी नहीं थी लेकिन मंचासीन लोगों में पीएम के कैबिनेट के दो सहयोगी, राज्यपाल रामनाथ कोविंद समेत गिने चुने लोग ही थे। गांधी मैदान स्थित कार्यक्रम में मंच पर आसीन तीन नेताओं की तिकड़ी यानि पीएम नरेंद्र मोदी, सीएम नीतीश कुमार और संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद काफी देर तक आपस में बात करती दिखी। मुख्य मंच पर पीएम के दाईं ओर सीएम नीतीश कुमार जबकि बाईं ओर पंजाब के सीएम प्रकाश सिंह बादल मौजूद थे।

मंच पर इन नेताओं के अलावा राज्यपाल रामनाथ कोविंद और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान भी मौजूद रहे लेकिन बातों का सिलसिला पीएम, सीएम और रविशंकर के बीच काफी देर तक चलता रहा। लालू की बात करें तो कार्यक्रम के दौरान लालू अपने दोनों बेटों के साथ मुख्य पंडाल के वीआईपी एरिया में ही रहे लेकिन लाइम लाइट से दूर।

पटना में हो रहे इस आयोजन के पहले से ही शहर के चौक-चौराहों पर लगे पोस्टरों में भी सिर्फ सीएम नीतीश कुमार ही नजर आये ऐसे में ये कयास लगाये जा रहे हैं कि महागठबंधन में एक बार फिर से सब कुछ ठीक नहीं चल रहा। लालू समेत उनके दोनों बेटों का मुख्य कार्यक्रम से दूर रहना चर्चा का विषय बना रहा।

पढ़े :   छापे के बाद लालू की ‘ट्वीट पॉलिटिक्स': पहले बीजेपी को नये एलायंस पार्टनर की बधाई दी, फिर लिखा हमारा गठबंधन अटूट

Live Bihar News

Our Goal is to Bring Important News, Photos and Information to the Public By Using Social Media, News Paper and E-News.

Leave a Reply

error: Content is protected !!