कोसी-सीमांचल में बाढ़ का कहर: बाढ़ के पानी से हवा में लटकी रेलवे लाइन

महेंद्र प्रसाद, सहरसा
कटिहार से मालदा रेल रूट भी कटिहार-मनिया स्टेशन के बीच पुल धँसने के कारण बुधवार 16 अगस्त की सुबह 7.30 बजे से परिचालन बंद है। फिलहाल सभी ट्रेन बंद !

फारबिसगंज – बथनाहा -जोगबनी स्टेशन के बीच रेल लाइन बुरी तरह क्षतिग्रस्त होने के कारण 13अगस्त से फारबिसगंज – रेल सेवा बंद है !

कटिहार से बारसोई होकर पूर्वोत्तर भारत से रेल संपर्क का एकमात्र रेल लाईन भी सुधानी- तेलता स्टेशन के पास रेल पुल सहित रेल लाईन बुरी तरह क्षतिग्रस्त होने से लम्बे समय के लिए पूर्ण रूप से बाधित हो गया है !

किशनगंज – न्यूजलपाईगुड़ी – सिलीगुड़ी – गुवाहटी की ओर जाने वाली सभी ट्रेन अनिश्चित काल के लिए रद्द कर दी गई है ! बनमनखी – सरसी के बीच रेल लाइन पर पानी आ जाने के कारण बनमनखी – पुर्णियाँ के बीच रेल सेवा भी 15 अगस्त से बंद हो गई है !

बाढ़ का तांडव इस तरह से ही कि पूर्वोत्तर की ओर जाने वाली अधिकांस ट्रैन या तो बंद है या उनका रुत बदल दिया गया है। पूर्वोत्तर बिहार के रेल सेवासड़क मार्ग का भी बुरा हाल है…कहीं कहीं राष्ट्रीय राजमार्ग पर 5 फीट तक पानी बताया जा रहा है एवं लाखों की आबादी बुरी तरह बाढ़ की विभीषिका की शिकार बनी हुई है, ऊपर से लगातार मूसलाधार बारिश स्थिति की भयावहता को और गंभीर बनाती जा रही है !

ये बिहार के सिर्फ 5 जिले का हाल है….बाँकी बिहार और देश के अन्य राज्य भी प्रकृति के प्रकोप से बुरी तरह प्रभावित हैं। कटिहार के अलावा किशनगंज के घर घर मे 4 से पांच फीट पानी लगा है। कोसी क्षेत्र के तीन जिला बुरी तरह से प्रभाभित है। लोगो को पीने के साफ पानी नही मिल रहा है।

पढ़े :   स्वतंत्रता दिवस: पीएम मोदी के 57 मिनट के भाषण में कश्मीर से लेकर महिलाओं का जिक्र, ...जानिए

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!