​निरहुआ हिंदुस्तानी-2 के लेखक अरविंद तिवारी बने युवाओं के लिए प्रेरणा 

विक्रम भगत नागवंशी की रिर्पोट: 

पटना: बिहार के सिवान जिले के दाड़ौंदा थाना के धनौता गांव से ताल्लुक रखने वाले फिल्म लेखक सह गीतकार अरविंद तिवारी युवाओं के लिए प्रेरणा बन चुके है। जी हां हम बात कर रहे भोजपुरी सिनेमा के मशहुर लेखक अरविंद तिवारी जिनके संघर्ष की एक अलग ही कहानी है। जिन्होंने हौसलो के बल पर अपनी कामयाबी की लकीर खिंची है। इन्होंने सिद्ध कर दिया है कि अगर सच्चे लगन से किया गया प्रयास कामयाबी की मिशाल कायम करता है। जितनी अच्छी इनका लेखन होता है। उतना ही अच्छा निजी जीवन मे लोगों से व्यवहार भी करते है। आज इनके लिखी हुई कहानी पर भोजपुरी के दिनेश लाल यादव निरहुआ, खेशारी लाल यादव, पवन सिंह, विराज भट्ट सहित कई सुपरस्टार हीट हो चुके है। अरविंद तिवारी एक साधारण परिवार से है और इन्होंने लेखन को अपना लक्ष्य बनाकर आगे बढ़ने का प्रयास किया। शुरूआती दौर मे कांटे भरे मुश्किलों से गुजरना पड़ा, पर अपने लक्ष्य पर अडिग रहा। परिणामस्वरुप आज इनके पास इतनी फिल्मे है। जिसके लिए समय निकालना मुश्किल है। वर्ष 2000 मे इन्होंने मुम्बई का रूख किया। जहां इनको तीन साल काफी मुश्किल दौर से गुजरना पड़ा। उस दौरान इनको कई दौर से गुजरना पड़ा। इन्होंने मुम्बई मे दो चार हजार रूपये की नौकरी तक करनी पड़ी। जब असफलता इनके हौसले के सामने नक मस्तक हो गया। तब इनको पहली फिल्म हमार इज्जत लिखने को मिला। जिसमे रानी चटर्जी व कृष्णा अभिषेक ने अभिनय किया। इसके बाद बाली व रानी चटर्जी की फिल्म मुन्नीबाई नौटंकी वाली लिखी। जो काफी हीट हुआ। जब इनके रफ्तार की गाड़ी दौरी तो बबाल करे छेदिया, सांवरिया आई लव यू, पवन सिंह के लिए विरासत एक जंग, यश मिश्रा के लिए एक रजाई तीन लुगाई, खेशारी के लिए बेताब, हीरो न. 1, जो जीता वही सिकंदर, साथिया, जानम जैसी दर्जनों सुपरहीट फिल्मे लिखी। अभी इनकी बहुचर्चित फिल्म निरहुआ हिंदुस्तानी-2 प्रदर्शन को तैयार है। इन्होंने कई गीत भी लिखे है। जिसमे जानम की एक गाना दुश्मन बनल जमाना कईसे जिही दिवाना, तोहार केसिया करेला बखेरा प्यार करेके बेरिया, तोहमे केतना मशाला जानेला उपर वाला भी काफी हीट साबित हुआ। वही शाजन चले ससुराल-2 मे गीत हम धरती के राजा तु रानी नील गगन के गाना को लोगों ने काफी पसंद किया है। बातचीत मे श्री तिवारी ने कहा कि सच्चे मन व लगन से किया गया प्रयास जरूर सफलता की ओर ले जाती है। उन्होंने संघर्षरत युवाओं के लिए कहा कि आप अपने लक्ष्य को साधकर पूरजोर कोशिश करें। कामयाबी आपके पिछे आएगी।

पढ़े :   कबाड़ से इस बिहारी बुजुर्ग ने बनाया सोलर लैंप, ...जानिए

Chandan Kumar

Student/Social Activist/Blogger/News Writer

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!