नहीं रहे मशहूर अभिनेता ओम पुरी, दिल कौ दौरा पड़ने से हुआ निधन

दक्षिण एशिया के महान अभिनेता और पद्मश्री ओमपुरी का शुक्रवार की सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह 66 साल के थे।

वह 300 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं और अभिनय के हर फन के माहिर माने जाते रहे हैं। ओमपुरी न सिर्फ बॉलीवुड सिनेमा, बल्कि पाकिस्तानी, ब्रिटिश और हॉलिवुड फिल्मों में भी अपनी बेमिसाल अदाकारी के लिए जाने जाते रहे। उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्मश्री की उपाधि दी गई और उन्होंने ‘आरोहण’ और ‘अर्धसत्य’ के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार हासिल किया था।

पिछले साल रिलीज हुई फिल्म ‘द जंगल बुक’ में ओम पुरी ने बघीरा को अपनी दमदार आवाज दी थी जिसे काफी पसंद किया गया था। इसके अलावा पिछले साल ओम पुरी फिल्म ‘एक्टर इन लॉ’ में नजर आए थे। नबील कुरैशी निर्देशित उनकी ये उर्दू फिल्म 13 सितंबर को रिलीज हुई थी।

सन 1993 में ओम पुरी की शादी नंदिता पुरी से हुई थी लेकिन 2013 में ये दोनों अलग हो गए थे। ओम पुरी का एक बेटा है जिसका नाम इशान है।

ओम पुरी का जन्म 18 अक्टूबर 1950 हरियाणा के में अम्बाला शहर में हुआ था। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने ननिहाल पंजाब के पटियाला से पूरी की। 1976 में पुणे फिल्म संस्थान से प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद ओमपुरी ने लगभग डेढ़ वर्ष तक एक स्टूडियो में अभिनय की शिक्षा दी। बाद में ओमपुरी ने अपने निजी थिएटर ग्रुप “मजमा” की स्थापना की।

ओम पुरी ने अपने फ़िल्मी सफर की शुरुआत मराठी नाटक पर आधारित फिल्म ‘घासीराम कोतवाल’ से की थी। वर्ष 1980 में रिलीज फिल्म “आक्रोश” ओम पुरी के सिने करियर की पहली हिट फिल्म साबित हुई।

‘जाने भी दो यारों’, ‘नसूर’, ‘मेरे बाप पहले आप’, ‘देहली 6’, ‘मालामाल वीकली’, ‘डॉन’, ‘रंग दे बसंती’, ‘दीवाने हुए पागल’, ‘क्यूँ! हो गया ना ‘,’ काश आप हमारे होते ‘और’ प्यार दीवाना होता है ‘जैसी सैकड़ों फिल्मों में नज़र आ चुके हैं। ओम पुरी सुपरस्टार सलमान खान की फिल्म ‘ट्यूबलाइट’ में भी नज़र आने वाले थे।

पढ़े :   देश भर में आज 68वें गणतंत्र दिवस की धूम, राजपथ पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने तिरंगे को फहराया

Rohit Kumar

Founder- livebiharnews.in & Blogger- hinglishmehelp.com | STUDENT

Leave a Reply

error: Content is protected !!