केंद्र ने कश्मीर पर की बातचीत के लिए इस बिहारी को दी जिम्मेदारी

केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर में शांति प्रक्रिया के लिए बातचीत शुरू करने जा रही है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार ने इंटेलिजेंस ब्यूरो के पूर्व डायरेक्टर दिनेश्वर शर्मा को सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर नियुक्त करने का फैसला किया। वे बातचीत की प्रक्रिया शुरू करेंगे और उनको पूरी छूट होगी कि किससे बात करनी है, किससे नहीं।

सीएम महबूबा मुफ्ती सहित विपक्षी दलों ने इस पहल पर खुशी जाहिर की है। राजनाथ ने कहा, ‘सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर शर्मा जम्मू-कश्मीर के लोगों की भावनाओं को समझेंगे। उनको कैबिनेट सेक्रटरी का दर्जा मिलेगा।

राजनाथ सिंह ने बताया कि बातचीत करने की पूरी आजादी होगी। अलगाववादियों से बातचीत पर सिंह ने कहा कि इसका फैसला शर्मा करेंगे। वह जिस भी पक्ष से बातचीत करना चाहे, कर सकते हैं।’ सभी पक्षों से बातचीत के बाद अपनी रिपोर्ट केंद्र और जम्मू-कश्मीर सरकार को सौंपेंगे। शर्मा बिहार के गया के रहने वाले हैं।

आईबी के साथ तीन बार कर चुके हैं काम
– बिहार में गया जिले के बेलागंज ब्लॉक के पाली गांव के रहने वाले शर्मा आइबी के साथ तीन बार काम कर चुके हैं।
– 1956 में जन्में दिनेश्वर शर्मा ने गया के टी-मॉडल हाइस्कूल से 1972 में मैट्रिक की परीक्षा पास की थी।
– 1976 में अनुग्रह नारायण कॉलेज से साइंस सब्जेक्ट से ग्रैजुएशन किया। 1978 में वह भारतीय वन सेवा के लिए चुने गए।
– 1979 में भारतीय पुलिस सेवा की परीक्षा पास की। वह करीब 20 वर्षो तक आइबी में पोस्टेड रहे हैं।
– दिनेश्वर शर्मा की शादी गया शहर के कोतवाली थाने के गुलाब बाग-पहसी के जालेश्वर प्रसाद सिंह की बेटी मंजू शर्मा से हुई है।
– मंजू शर्मा की बड़ी बहन गीता कुमारी की शादी उनके बड़े भाई भुवनेश्वर शर्मा से हुई है।
– उनके मंझले भाई मधेश्वर शर्मा की शादी केंद्रीय राज्यमंत्री गिरिराज सिंह की बहन से हुई है। शर्मा के बेटे की शादी राज्य के पूर्व डीजीपी अभयानंद की बेटी ऋचा से हुई है।

पढ़े :   गूगल डूडल बना कर मना रहा बिहारी कवि अब्दुल कावि देसनवी का जन्मदिन

कौन हैं दिनेश्वर शर्मा
– 1979 बैच के केरल काडर के आईपीएस अधिकारी शर्मा को सुरक्षा और कश्मीर मामलों का जानकार माना जाता है।
– आईबी में शर्मा की पहली तैनाती 25 साल पहले मई 1992 में असिस्टेंट डायरेक्टर के तौर पर कश्मीर में ही हुई थी।
– उस समय आतंकवाद चरम पर था। वे उस समय 36 साल के थे। 1994 में कश्मीर से लौटने के बाद वे दिल्ली में भी कश्मीर डेस्क संभालते रहे।
– शर्मा 1 जनवरी 2015 से 31 दिसंबर 2016 तक आईबी के निदेशक थे।

शर्मा ने अपनी नियुक्ति पर कहा कि सरकार ने मुझे बड़ी जिम्मेदारी दी है। उन्होंने कहा कि मैं 8-10 दिनों में कश्मीर जाऊंगा। प्राथमिकता जम्मू-कश्मीर में शांति बहाल करने और एक स्थायी समाधान खोजने की है।

Rohit Kumar

Founder- livebiharnews.in & Blogger- hinglishmehelp.com | STUDENT

Leave a Reply

error: Content is protected !!