बिहार में यह ठेले पर गोलगप्पे बेचने वाला लेता है ‘पेटीएम’ से पेमेंट

बिहार में पटना के प्रतिष्ठित मगध महिला कॉलेज के गेट पर गोलगप्पे के ठेला पर एक बोर्ड देखकर लोग पलभर के लिए चौंक जाते हैं। दरअसल, यह बोर्ड ठेले के ग्राहकों के लिए पेटीएम की सुविधा की जानकारी देता है। ठेला लगाने वाला एक लड़का बड़े शोरूम मालिकों की तरह कैश के साथ ही पेटीएम के जरिए भी कस्टमर्स से पेमेंट लेता है। इस लड़के का नाम सत्यम है। वह 12वीं पास है और एक साधारण किसान का बेटा है। फिलहाल सत्यम अगले साल ग्रैजुएशन में एडमिशन लेने की तैयारी कर रहा है। सत्यम ऐसा करने वाला इकलौता हाथ ठेला वाला नहीं है। यहां कई और छोटे-मोटे दुकानदार पेटीएम से कैश ले रहे हैं।

जानिए क्यों पेटीएम से लेता है पेमेंट
– स्मार्टफोन पर नई-नई तकनीक आने से छोटे-मोटे कारोबारी भी हाईटेक हो रहे हैं। सत्यम भी उन्हीं में से एक है। सत्यम के ठेले पर गोलगप्पे खाकर ”पेटीएम” के ई-वॉलेट से आप भुगतान कर सकते हैं।
– सत्यम का कहना है कि इससे खुल्ले पैसे के लिए चिकचिक नहीं होती है। साथ ही सत्यम का कहना है कि इसके लिए कैश रखने की भी मजबूरी नहीं होती है।
– उसने बताया कि कॉलेज की छात्राएं ठेले के पास खड़े होकर गोलगप्पे खाती हैं और उसका पेमेंट “पेटीएम’ के माध्यम से करती हैं। वह बताता है कि लड़कियों में पेटीएम का बहुत क्रेज है।
– कम से कम 20 रुपए का पेमेंट छात्राओं को ठेले पर करना पड़ता है। सत्यम के अलावा गांधी मैदान इलाके में कुछ और ठेलेवाले भी पेटीएम से पैसे ले रहे हैं।

पढ़े :   बिहार के CISF, CRPF SSB और NDRF अफसरों को राष्ट्रपति से अवार्ड

विदित हो कि ‘पेटीएम’ सीधे बैंक अकाउंट से जुड़ा एक ई-वॉलेट होता है। इसके जरिए आप कपड़े से लेकर खाने-पीने और ट्रैवल व हजारों तरह की शॉपिंग कर सकते हैं। मोबाइल रिचार्ज, डीटीएच, गैस, बिजली बिल, किराना, कपड़े आदि की दुकानों पर पेटीएम से भुगतान कर सकते हैं। कैब या बस सर्विस लेते वक्त भी इसका यूज किया जा सकता है। कई ऑटो चालक भी अपने पैसेंजर्स को इसकी फैसिलिटी दे रहे हैं।

ऐसे काम करता है
मोबाइल पर पेटीएम एप डाउनलोड करने के बाद उस पर अपना अकाउंट बनाया जाता है। उसके बाद जिस भी जगह आपको पेटीएम का उपयोग करना है, वहां मौजूद पेटीएम के बार कोड को अपने मोबाइल से स्कैन किया जाता है। उसके बाद मोबाइल पर आए ओटीपी को डाल कर पेमेंट किया जा सकता हैं। इसके लिए पहली बार आपको अपने बैंक अकाउंट की जानकारी देनी होती है। पेटीएम वॉलेट का उपयोग करने के लिए उसमें अपने बैंक अकाउंट से पहले ही कुछ पैसा जमा कर दिया जाता है।

क्या कहती हैं कॉलेज की लड़कियां ?
– कॉलेज की एक छात्रा शेफाली इस ठेला की नियमित ग्राहक हैं। वे कहती है, कम पैसे रहने पर पेटीएम का उपयोग करने में सुविधा रहती है।
– कॉलेज की एक स्टूडेंट मांडवी कहती है- थोड़ा-थोड़ा करके बहुत पैसे खर्च हो जाते हैं। खाने-पीने की चीजों का पेमेंट करने के लिए पेटीएम का उपयोग करती हूं।
– बीकॉम की एक दूसरी स्टूडेंट पूजा कहती हैं कि कई बार कम पैसे होने की स्थिति में पेटीएम का यूज करती हूं।
– कॉलेज की रागिनी ने भी कहा कि यह सुविधाजनक है।
– एक अन्य स्टूडेंट ने कहा, पेटीएम से पेमेंट करते समय खुले पैसे का झंझट नहीं रहता।

पढ़े :   बिहार के लिट्टी-चोखा के USA से सिंगापुर तक दीवाने, अब फीलीपींस में भी मचेगी धूम

Rohit Kumar

Founder- livebiharnews.in & Blogger- hinglishmehelp.com | STUDENT

Leave a Reply

error: Content is protected !!