10 फीट के पेड़ पर 3-5 KG तक के 40 पपीते, …जानिए

बिहार के बेतिया में स्तिथ रमना मैदान के पास लीज पर ली हुई चार एकड़ की जमीन पर लाल चौधरी नाम के किसान ने इंटरक्रापिंग टेक्निक से ऐसी खेती को अंजाम दिया कि एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट का ध्यान उसकी तरफ चला गया। दरसल लाल चौधरी ने 10 फीट के पपीता के पेड़ पर 3 से 5 KG के 40 पपीते उगाए हैं जो चर्चा में है। खास बात ये कि ये खेती आॅर्गेनिक तरीके से की गयी है।

आॅर्गेनिक खाद से की जा रही इंटरक्रॉपिंग कृषि
आॅर्गेनिक खाद के इस्तेेमाल से की गयी इस खेती के कारण आज लगभग चार एकड़ जमीन पर एक-एक पौधे में तीन से पांच किलो वाले फल लगे हुए है तथा जमीन के अंदर चुकंदर के पौधे भी लोगों का ध्यान आकर्षित कर रहे हैं।

स्वाद के कायल हुए अधिकारी
तीन जनवरी को लाल चौधरी के द्वारा की गयी इंटरक्रापिंग खेती का मुआयना करने पहुंचे डीएओ शीलाजीत सिंह ने काफी देर तक वहां समय गुुजारा और बेहतर किसानी के कारगर टिप्स भी दिए। मौके पर उपस्थित अन्य अधिकारियों ने जब पपीते व चुकंदर का स्वाद चखा तो सभी दंग रह गए। डीएओ ने लाल चौधरी को शाबाशी दी।

लाल चौधरी की सक्सेस स्टोरी का प्रोफाइल तैयार, सीएम के पास भेजा जाएगा
कृषि विभाग के द्वारा दी गयी प्ररेणा एवं विशेष रुप से डीएओ के द्वारा मिली नसीहत से लाल चौधरी ने बागवानी के क्षेत्र में कदम बढ़ाया और आज उसने ऐसी जबरदस्त खेती की है कि उसकी सक्सेस स्टोरी का प्रोफाइल कृषि विभाग के द्वारा तैयार कर सीएम के पास भेजा जा रहा है।

पढ़े :   बिहार के इन प्रखंडों में बनेगा रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम, ...जानिए

जिला कृषि पदाधिकारी शीलाजीत सिंह ने कहा कि इंटरक्रॉपिंग विधि से की गयी किसानी के जरीए लाल चौधरी जिलेवासियों के लिए एक रोल मॉडल के रूप में उभर रहे हैं। उनके सक्सेस स्टोरी को कृषि विभाग के जरीए मुख्यमंत्री तक भेजा जाएगा। वीडियोग्राफी हो चुकी है। उनका प्रोफाइल तैयार किया जा रहा है।

Leave a Reply