पटना के गांधी मैदान में खुला फूड कोर्ट: सुबह से रात तक शुद्ध, स्वादिष्ट विविध व्यंजनों का लें आनंद

राजधानी के ऐतिहासिक गांधी मैदान को अब बड़े शहरों की तर्ज़ पर जन्दी ही सिटी स्कवायर की तरह विकसित किया जायेगा। आज गुरुवार को फूड कोर्ट के लोकार्पण के लिए पहुंचे मंडल आयुक्त आनंद किशोर ने यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से अन्य बड़े शहरों में सिटी स्कवायर होता है जो वहां का सबसे व्यस्त स्थान होता है जहां बड़ी संख्या में लोग क्वालिटी टाइम गुज़ारते हैं। जहां लगातार अलग अलग तरह की गतिविधियाँ होती रहती है, गांधी मैदान को उसी तर्ज़ पर विकसित करने की योजना है।

उन्होंने कहा कि ‘टेस्ट ऑफ बिहार’ फूड कोर्ट उस दिशा में एक अहम कदम है। फूड कोर्ट की परिकल्पना पर मंडल आयुक्त ने कहा कि यह सुझाव जनता की तरफ से ही विभाग को मिला है। उन्होंने कहा कि जब भी विभाग के अधिकारी गांधी मैदान केे निरीक्षण आदि के लिए आते थे तो यहां आने वाले लोग अच्छे फूड कोर्ट खुलवाने का सुझाव देते थे। उन्हीं सुझाव के आलोक में यहां फूड कोर्ट खोलने की योजना को अमली जाम पहनाया गया है।

आनंद किशोर ने कहा कि गांधी मैदान में बड़ी संख्या में लोग आते हैं और यहां बाहर खोमचों में जो खाना मिलता है वह हाइजीन के मुताबिक अच्छा नहीं होता, फूड कोर्ट में अच्छा और शुद्ध खाना लोगों को मिलेगा। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि गांधी मैदान को सिटी स्कवायर की तरह विकसित करने की योजना के तहत यहां चिल्ड्रेन पार्क पहले ही खोला जा चुका है। इसके अलावा आने वाले दिनों में महिलाओं और पुरुषों के लिए अलग-अलग ओपेन जिम, दो ग्रीन टॉयलेट व पीने के शुद्ध पानी के लिए आरओ समेत कई सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी।

आनंद किशोर ने कहा कि वह पटनावासियों को यकीन दिलाना चाहते हैं कि गांधी मैदान को सिटी स्कवायर की तरह विकसित करने का सफर जो आज फूड कोर्ट से शुरू हुआ है, आगे कई मंज़िलों को तय करेगा। इससे संबंधित सभी योजनाओं को अमलीजामा पहनाया जायेगा।

पढ़े :   अब बिहार के बाघों की निगरानी करेंगे कर्नाटक के हाथी, ...जानिए

उन्होंने बताया कि फूड कोर्ट में स्वच्छता का पूरा ख्याल रखा गया है, जहां एक भी गलती की गुंजाइश नहीं है। उन्होंने कहा कि फूड कोर्ट के प्रबंधन मे एग्रीमेंट में साफ तौर पर लिखवाया है कि हाईजीन से किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जायेगा। पहली गलती में ही टेंडर रद्द कर दिया जायेगा।

बता दें कि गांधी मैदान के गेट संख्या 7, 7ए और 8 पर तीन अलग-अलग फूड कोर्ट खोले गए है, जिनमें अलग-अलग वेंडर्स द्वारा संचालित कुल 60 फूड स्टॉल हैं।

फूड कोर्ट के खुलने व बंद होने का समय
फूड कोर्ट प्रातः 06-00 बजे खुलेगा। गाँधी मैदान आने वाले मार्निंग वाकर्स के लिए हेल्थ ड्रिंक यथा-जूस, ग्रीन टी, नारियल पानी तथा भविष्य में नीरा की भी उपलब्धता रहेगी। प्रातः 08:00 बजे से ब्रेक फास्ट के रूप में राजमा-चावल, लिट्टी-चोखा, चूरा-घुघनी, चाइनीज फूड इत्यादि मिलेगा।

लंच का समय पूर्वाह्न 11-00 बजे से अपराह्न 03-00 बजे तक रहेगा। इस दौरान आम जनो के लिए विभिन्न दरों पर वेज तथा नॉनवेज के विभिन्न व्यंजन उपलब्ध रहेंगे। अपराह्न 04-00 बजे से विभिन्न प्रकार के पकौडों के साथ कुल्हड़ चाय, बिहार की प्रसिद्ध मिठाइयाँ, पटना के प्रसिद्ध मिठाई यथा- दही भल्ला, मिल्क शेक, जलेबी इत्यादि उपलब्ध रहेंगे। डिनर शाम 07-00 बजे से रात 09-30 बजे तक उपलब्ध रहेगा।

फूड कोर्ट की विशेषताएँ
फूड कोर्ट की मास्टर सेफ मुंगेर की श्वाति शेखर हैं, जो स्टार प्लस सीजन-01 पर मास्टर सेफ टाप 12 की कंटेस्टेंट रही हैं। इनके द्वारा कूकिंग पर 10 किताबें लिखी गई हैं। पब्लिशर हेमा मालिनी की अध्यक्षता वाली ‘‘मेरी सहेली’’ संस्था है। इसके अतिरिक्त, श्वाति कई मैगजीन में फूड आर्टिकल भी लिखती हैं। फूड कोर्ट में इनके द्वारा विशेषकर मुगलई व्यंजन तथा जीरो आयल फूड तैयार किया जा रहा है।

फूड कोर्ट में Start Up के रूप में प्रसिद्ध शंभू कुमार द्वारा चाय का स्टाल लगाया गया है, जहाँ 40 प्रकार के निकोटीन फ्री हर्बल चाय उपलब्ध रहेगा। बिहार के नालंदा जिला के रहने वाले शंभू कुमार को 21 मार्च, 2017 को माननीय मुख्यमंत्री बिहार द्वारा पुरस्कृत भी किया गया था।

पढ़े :   खुशखबरी! बिहार में सस्ती होगी बिजली, ...जानिए

फूड कोर्ट में एक स्टाल रीमा देवी का भी है, जिन्होंने उमंग महिला मंडल के बैनर तले ग्रामीण महिलाओं को शराबबंदी अभियान के संबंध में जानकारी दी तथा ग्रामीण इलाकों में शराबबंदी के खिलाफ अभियान भी छेड़ा। रीमा देवी ने फूड कोर्ट में साउथ इंडियन फूड का स्टाल लगाया है और सेफ के रूप में वे ट्रेनिंग भी ले चुकी हैं। फूड कोर्ट में विभिन्न प्रकार के व्यंजन हेल्दी तथा हाइजेनिक रूप में उपलब्ध रहेंगे।

देवघर का प्रसिद्ध अट्ठे मीट जो शुद्ध घी से बनाया जाता है, वह भी फूड कोर्ट में नानवेज के चाहने वालों के लिए उपलब्ध रहेगा। इसके अतिरिक्त सोया चाट भी फूड कोर्ट में उपलब्ध रहेगा। इस अवसर पर आयुक्त के साथ आयुक्त के सचिव-सह- प्रभारी पदाधिकारी व अन्य वरीय पदाधिकारी उपस्थित थे।

अलग-अलग वर्ग के लिए है फूड कोर्ट
फूडकोर्ट के प्रबंधक ओम प्रकाश तिवारी ने बताया कि गेट नं-6 पर स्थित फूड कोर्ट यूनिवर्सल है, अर्थात् सभी आयुवर्ग तथा परिवार के लोग इस फूड कोर्ट में विभिन्न प्रकार की व्यंजनों का मजा ले सकेंगे। गेट नं-7 पर स्थित फूड कोर्ट को विशेषकर teenager ग्रूप के लिए बनाया गया है। इसकी डिजाइनिंग व लैंडस्केप बीआईटी मेसरा के पटना कैम्पस के छात्र रेयान द्वारा किया गया है। डिजाईनिंग में innovative material का प्रयोग किया गया है। गेट नं-7ए पर स्थित फूड कोर्ट पूर्ण रूप से Family के लिए है।

पढ़े :   बड़ी खुशखबरी: राज्य कर्मियों को केंद्रीय कर्मियों के अनुरूप 2006 से मिलेगा वेतन, ...जानिए

Rohit Kumar

Founder- livebiharnews.in & Blogger- hinglishmehelp.com | STUDENT

Leave a Reply

error: Content is protected !!