महिलाओं के लिए रोड मॉडल हैं किसान चाची, कभी दो वक्त की रोटी की थी मोहताज

गांव की पगडंडियों पर मीलों साइकिल चलाकर किसानों के बीच क्रांति की अलख जगाने वाली किसान चाची आज हजारों महिलाओं की रोड मॉडल हैं। गांव की आम महिला से किसान चाची के रूम में नाम बनाने का सफर काफी संघर्ष से भरा है।

राजकुमारी देवी है किसान चाची का नाम
बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के सरैया की रहने वाली राजकुमारी देवी को लोग आज किसान चाची के नाम से जानते हैं, लेकिन 40 साल पहले ऐसा नहीं था। गरीब घर में जन्मी राजकुमारी देवी की शादी किसान परिवार में हुई थी। राजकुमारी ने ससुराल में अपनी गृहस्थी जमाई भी नहीं थी कि ससुर ने उसे पति के साथ परिवार से अलग कर दिया।

मुश्किल से मिलती थी दो वक्त की रोटी
बंटवारे के बाद मिले ढाई एकड़ जमीन से उन्हें अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम करना था। ढ़ाई एकड़ जमीन की उपज से परिवार का पेट पालना कठिन था। हमेशा घर की चहारदीवारी में रहने वाली राजकुमारी ने मुश्किल घड़ी में हौसला नहीं खोया। उन्होंने फैसला किया कि इस जमीन से ही हम इतने पैसे कमाएंगे, जिससे परिवार खुशी से रह सके।

ओल की खेती से मिली सफलता
राजकुमारी ने राजेन्द्र कृषि विवि से उन्नत कृषि की जानकारी ली और अपनी जमीन पर पपीता और ओल की खेती शुरू की। उन्होंने अपने खेत में पैदा हुए ओल को सीधे मार्केट भेजने की जगह उसका अचार और आटा बनाकर बनाकर बेचना शुरू किया। अचार के बिजनेस से राजकुमारी को अच्छी आय होने लगी।

महिलाओं को खेती सिखाया
गांव की महिलाओं को जब इसका पता चला तो वे भी सीखने आने लगी। राजकुमारी ने अपने जैसी उन महिलाओं को साथ लिया जो गरीबी में जी रही थी और कुछ करना चाहती थी। उन्होंने अपने घर पर ही महिलाओं को खेती और अचान बनाने के तरीके सिखाए। वक्त के साथ उनके अचार और अन्य फूड प्रोडक्ट का बिजनेस बढ़ता गया और राजकुमारी की जगह वह किसान चाची के नाम में फेमस हो गईं।

पढ़े :   'लिट्टी चोखा' नेशनल ही नहीं, 'इंटरनेशनल' हो गया अब....जानिए कैसे?

साइकिल से करती हैं सफर
अपने काम के साथ किसान चाची ने गांव की गरीब महिलाओं के लिए भी काफी प्रयास किया। गांव-गांव जाकर व महिलाओं के स्वयं सहायता समूह बनाने लगीं। वह साइकिल ले ही 40-50 km की दूरी तक चली जाती थी। उन्होंने महिलाओं को खेती, फूड प्रोसेसिंग और मूर्ति बनाने के तरीके सिखाए। अब तक किसान चाची 40 स्वयं सहायता समूह का गठन कर चुकी हैं।

बिहार सरकार ने भी किसान चाची को सम्मानित किया है। केंद्र सरकार की ओर से देश भर के किसानों को उनके अनुभवों से लाभान्वित करने के लिए उनपर फिल्म भी बनाई जा चुकी है। 58 साल की किसान चाची आज भी दिन भर में 30 से 40 किलोमीटर साइकिल चलाती हैं और गांवों में घूमकर किसानों के बीच मुफ्त में अपने अनुभवों को बांटती हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!