बिहार के 500 पेट्रोल पंपों पर खुलेंगे जन औषधि स्टोर

बिहार के 500 पेट्रोल पंपों पर जेनेरिक स्टोर की दुकानें खोलने की योजना है। इन दुकानों को जन औषधि केंद्र के नाम से जाना जायेगा। प्रथम चरण में मार्च तक 50 पेट्रोल पंपों पर जन औषधि स्टोर खुलेंगे। इसकी तैयारी में तीनों सरकारी तेल कंपनियां जुटी हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी योजना का मुख्य उद्देश्य आम लोगों को सस्ती दवाएं उपलब्ध कराना है।

इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन से मिली जानकारी के अनुसार यह योजना जनवरी में शुरू की गयी है। वैसे तो यह स्टोर राज्य के सभी पेट्रोल पंपों पर खोलने की योजना है। लेकिन प्रथम चरण में 50 पेट्रोल पंपों पर जन औषधि स्टोर खुलेंगे।

इसके लिए तेल कंपनियां अपने डीलर्स को पत्र तथा ईमेल के जरिये उनसे जानकारियां प्राप्त कर रही हैं। अधिकारियों की मानें, तो यह बहुत ही अच्छी योजना है। इससे लोगों को कम कीमत पर दवाएं मिलेंगी। लेकिन कंपनियों का फोकस ग्रामीण क्षेत्र के पेट्रोल पंपों पर अधिक है। कंपनी के अधिकारी डीलरों से सीधे भी संपर्क कर इसके फायदाें के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

इस स्टोर को खोलने में कुछ शर्तें हैं, जिन्हें हर हाल में डीलर को पूरा करना होगा, तभी उन्हें जन औषधि स्टोर खोलने की अनुमति मिलेगी। रसायन और उर्वरक मंत्रालय के डिपार्टमेंट ऑफ फार्मास्यूटिकल के तहत पेट्रोल पंपों पर जन औषधि स्टोर्स खोले जा रहे हैं। मिली जानकारी के अनुसार इंडियन ऑयल काॅरपोरेशन, हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन तथा भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन तेल कंपनियां हैं, जिनके लगभग 3700 पेट्रोल पंप सूबे में खुले हैं।

इन योजनाओं पर भी विचार
तेल कंपनी के अनुसार आईटी मंत्रालय के तहत आने वाले कॉमन सर्विस सेंटर के कॉन्सेप्ट पर ही पेट्रोल पंपों पर पैन व आधार कार्ड जारी करने, दैनिक सेवाओं के बिल भुगतान, बैंकिंग जैसी सेवाएं शुरू करने पर उच्च स्तर पर विचार चल रहा है। इससे पहले तेल कंपनियों ने ईईएसएल और सरकारी रिटेल कंपनियों के बीच हुए समझौते के तहत पेट्रोल पंप पर कम बिजली खपत वाले बल्ब बिक रहे हैं।

पढ़े :   मिलिए 'सदाबहार' सेंटा क्लॉज से, पूरे साल अनोखे 'गिफ्ट देकर लौटाते खुशियां

Leave a Reply

error: Content is protected !!