अमेरिका ने बिहार के विकास कार्यों को सराहा

भारत में अमेरिका के राजदूत केनिथ जस्टर ने शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अणे मार्ग में मुलाकात कर बिहार में चल रहे विकास कार्यों की प्रशंसा की। केनिथ जस्टर ने मढ़ौरा डीजल लोकोमोटिव कारखाना के संदर्भ में भी चर्चा की। मुख्यमंत्री से राजदूत की यह शिष्टाचार मुलाकात थी। केनिथ जस्टर के साथ कांसुलेट जेनरल क्रैग हॉल काउंसल फॉर पॉलिटिकल एंड इकोनॉमिक अफेयर्स प्रसेनजीत गुप्ता एवं एडवाइजर ग्लोबल अफेयर सौरभ सेन भी मौजूद थे।

विकास कार्यों, सात निश्चय योजना पर की चर्चा
मुख्यमंत्री ने अमेरिकी राजदूत से बिहार में हो रहे विकास कार्यों, सात निश्चय योजना के बारे में विस्तार से चर्चा की। मुख्यमंत्री ने अमेरिकी राजदूत को चंपारण सत्याग्रह अंग-वस्त्र एवं अशोक स्तंभ प्रतीक चिह्न भेंट कर सम्मानित किया। अमेरिकी राजदूत ने भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को उपहार भेंट किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, सचिव मनीष वर्मा, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह उपस्थित थे।

राज्यपाल से की मुलाकात
राजभवन में शनिवार को राज्यपाल सत्यपाल मलिक से भारत में अमेरिका के राजदूत केनिथ आई जेस्टर ने शिष्टाचार मुलाकात की। शिष्टाचार मुलाकात के दौरान राज्यपाल ने बिहार के गौरवमयी ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक इतिहास के बारे में अमेरिकी राजदूत को अवगत कराया। राज्यपाल ने बताया कि भारत के स्वर्णयुग का इतिहास वस्तुत: बिहार का ही इतिहास है।

राज्यपाल ने बोधगया, पावापुरी, राजगीर, वैशाली के ऐतिहासिक सांस्कृतिक महत्व के बारे में अवगत कराते हुए कहा कि विश्व के प्रथम गणतंत्र की भूमि वैशाली बिहार में ही है। श्री मलिक ने अमेरिकी राजदूत को बताया कि राज्य में आधारभूत संरचना के विकास के क्रम में सड़क, बिजली, स्वास्थ्य-केंद्र, शिक्षण संस्थान आदि के सुदृृढ़ीकरण पर पूरा ध्यान दिया जा रहा है। राजदूत को राज्यपाल ने बताया कि बिहार में कृषि आधारित उद्योगों के विकास की अपार संभावना है।

पढ़े :   जयनगर से आज की अहम खबरें 

पश्चिमीकरण की कॉपी न करें, मौलिकता विकसित करें
शनिवार को बिहार उद्यामिता संघ की बैठक को संबोधित करते हुए अमेरिका के राजदूत केनिथ आई जस्टेर ने महिला उद्यमियों को पश्चिमीकरण की कॉपी करने की बजाए अपना खुद का वैशिष्ट्य विकसित करने पर ध्यान लगाने की सलाह दी। उन्होंने महिला उद्यमियों द्वारा पूछे गये सवाल के जवाब में कहा कि ऐसा होने पर वे अपनी शर्तों पर व्यवसाय को बढ़ा सकेंगी और इसके लिए उपयुक्त व्यावसायिक पार्टनर का चुनाव कर सकेंगी।

कार्यक्रम में आठ महिला उद्यमियों प्रियंका सिंह, आर प्रियंका, तन्या, मीनाक्षी कनोडिया, वत्सल, मितुल कुमारी, डॉ पूजा त्रिपाठी और सुभद्रा सिंह ने केनेथ से सवाल पूछे व अपने कार्य अनुभव को साझा किया। उनका चुनाव बिहार बंगाल के 120 महिला उद्यमियों में से किया गया था। कार्यक्रम का आयोजन यूएस कॉन्सूलेट कोलकाता की पहल पर पूर्वी भारत में महिला उद्यमिता के विकास को सहयोग देने के लिए किया गया था।

पहली बिहार यात्रा को बताया बेहतरीन
शुक्रवार शाम बोधगया से शुरू केनिथ की यात्रा उनकी पहली बिहार यात्रा थी। शनिवार दोपहर महिला उद्यमियों को संबोधित करने के बाद वे वापस दिल्ली लौट गये। बिहार उद्यमिता संघ की बैठक से पहले अमेरिकी राजदूत बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राज्यपाल सत्यपाल मलिक से भी मिले।

लौटने से पहले अपनी बिहार यात्रा को अविस्मरणीय बताते हुए केनेथे ने कहा कि सीएम और राज्यपाल से मिलने के साथ साथ पटना में महिला उद्यमियों से मिलने का अनुभव भी बेहतरीन रहा। वे ऐसी महिलाएं हैं जो दिन प्रतिदिन की चुनौतियों से लड़ कर अपना व्यवसाय खड़ी कर रही हैं। उनकी सफलता केवल उनके लिए ही नहीं बल्कि इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि वे बहुत से अन्य महिलाओं के लिए रोल मॉडल बनेंगी, जो उन्हें भी आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेगा और उनके परिवार की स्थिति सुधारेगा।

पढ़े :   प्रो कबड्डी चैंपियन पटना पायरेट्स के खिलाड़ियों को राज्यपाल ने किया सम्मानित

Leave a Reply

error: Content is protected !!