अब कांग्रेस में टूट! अशोक चौधरी सहित चार MLC ने छोड़ी पार्टी, JDU में होंगे शामिल

हिंदुस्‍तानी अवाम मोर्चा (हम) के अध्यक्ष जीतनराम मांझी के राजग छोड़ने के बाद अब बिहार कांग्रेस में भूचाल मचा है। कांग्रेस में बड़ी टूट हुई है। विधान परिषद में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी ने जदयू में शामिल होने की आधिकारिक घोषणा कर दी है। आज बुधवार की रात उन्होंने कांग्रेस के तीन विधान पार्षद दिलीप कुमार चौधरी, रामचंद्र भारती और तनवीर अख्तर के साथ प्रेस कांफ्रेंस कर यह जानकारी दी है। 

पढ़े :   एनडीए का साथ छोड़ महागंठबधन में शामिल हुए जीतन राम मांझी

उन्होंने कहा है कि हम नीतीश कुमार के नेतृत्व को स्वीकार करते हैं, और हमारे पार्टी में शामिल होने के आग्रह को स्वीकार करने के लिए उनके आभारी हैं। वहीं, प्रेस कांफ्रेंस के दौरान ही कांग्रेस ने चारों को निष्‍कासित कर दिया। इसपर अशोक चौधरी ने तंज कसा कि यहां भी कांग्रेस की गाड़ी लेट हो गई, दल छोड़ने पर दल से निकाल रहे हैं।

अशोक चौधरी ने बताया कि जब वे अध्यक्ष बनाए गए उस वक्त विधान परिषद में कांग्रेस की संख्या शून्‍य थी। उनकी मेहनत से चार विधायकों वाली पार्टी 27 पर पहुंची। उन्‍होंने कहा कि अध्यक्ष का टर्म पूरा होने पर वे इस्तीफा देने को तैयार थे, पर उन्‍हें बेइज्जत कर हटाया गया। मगर वे राहुल गांधी के कहने पर मौन थे, लेकिन विधयक दल की बैठक में जब उन्‍हें अपमानित किया गया तो पार्टी छोडने का फैसला किया। अशोक चौधरी ने कहा कि मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार एक सुलझे हुए नेता हैं। वे राज्य का विकास करना चाहते हैं। उनके साथ रहकर बिहार की सेवा करने का मौका मिलेगा।

बता दें कि चौधरी की अगुवाई में उनके 2 पोलो रोड स्थित सरकारी आवास पर समर्थकों की देर शाम तक बैठक चली। इस दौरान सभी ने कांग्रेस को अलविदा करने का मन बना लिया था। जिसके बाद इसकी आधिकारिक घोषणा भी कर दी गयी। विधान परिषद में कांग्रेस के छह सदस्य हैं। जिसमें अशोक चौधरी, दिलीप कुमार चौधरी, रामचंद्र भारती और तनवीर अख्तर एक गुट में हैं। इनकी ओर से विधान परिषद के उप सभापति हारुन रशीद को परिषद में अलग गुट की मान्यता देने का अनुरोध किया गया है। इस बाबत रामचंद्र भारती द्वारा उप सभापति को पत्र लिखा गया है। इससे पहले चारों विधान पार्षदों ने बुधवार को विधान परिषद के उप सभापति से मुलाकात की थी। यह मुलाकात करीब 20 मिनट तक चली।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!