बिहार बोर्ड ‘फेल’ छात्रा को देगा पांच लाख रुपए हर्जाना, …जानिए

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति को एक छात्रा के भविष्य के साथ खिलवाड़ करना काफी महंगा पड़ा। पटना हाईकोर्ट ने बारकोडिंग बदलने से फेल हुई बिहार के सहरसा की प्रियंका सिंह के मामले में बिहार बोर्ड पर पांच लाख का जुर्माना लगाया है। यह रकम छात्रा को मिलेगी। परीक्षा समिति को तीन महीने में यह राशि देनी है।

न्यायाधीश चक्रधारीशरण सिंह की पीठ ने इस मामले में आदेश दिया है। बोर्ड की लापरवाही से छात्रा फेल बताई गई और स्क्रूटनी में भी उसका रिजल्ट नहीं सुधरा। अदालत ने स्क्रूटनी में गड़बड़ी की जांच के लिए एक कमेटी गठित करने की बात कही है। यह कमेटी स्क्रूटनी में गड़बड़ी से असंतुष्ट छात्र-छात्राओं की कॉपियों की जांच करेगा।

क्या था पूरा मामला
बोर्ड ने जब मैट्रिक का रिजल्ट घोषित किया था तो सहरसा की डीडी हाईस्कूल सड्डिहा की छात्रा प्रियंका सिंह को उसमें उसे फेल बताया गया था। जब प्रियंका ने स्क्रूटनी को आवेदन दिया तो रिजल्ट में नो चेंज लिख दिया गया। पर प्रियंका को खुद पर भरोसा था कि वह फेल नहीं हो सकती। वह हाईकोर्ट गयी। हाईकोर्ट ने हस्तक्षेप किया तो बिहार बोर्ड ने प्रियंका को उसकी उत्तर पुस्तिका दे दी।

बोर्ड ने इसके लिए प्रियंका से 40 हजार रुपए लिए। प्रियंका ने जब उत्तर पुस्तिका देखी तो पता चला कि यह उसकी कॉपी नहीं है। कॉपी किसी और की थी। कॉपी दूसरी छात्र से बदल जाने के कारण उसे फेल कर दिया गया। अब जब बोर्ड ने रिजल्ट सुधारा तो प्रियंका को 422 अंक मिले हैं। यानी टॉप टेन की सूची से थोड़ा कम। संस्कृत में 9 की जगह 61 और साइंस में 49 की जगह 100 अंक आए हैं। इतना कुछ होने के बावजूद अभी भी प्रियंका रिजल्ट का इंतजार कर रही है। बोर्ड की वेबसाइट पर भी उसका रिजल्ट फेल वाला ही है। उसका नामांकन अभी तक नहीं हो पाया है।

पढ़े :   बिहार बोर्ड मैट्रिक कंपार्टमेंटल परीक्षा व स्क्रूटिनी की तिथि घोषित, इस तारीख तक कर सकते हैं आवेदन

प्रियंका ने डीडी हाईस्कूल सड्डिहा से मैट्रिक की परीक्षा (रोल कोड 41047, रौल नंबर 1700124) दी थी। इधर, सहरसा थाने में बिहार बोर्ड की ओर से दोषी कर्मियों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करायी गयी है। दर्ज एफआईआर में बोर्ड ने कहा है कि प्रियंका सिंह के लिए विज्ञान एवं संस्कृत विषयों के लिए आवंटित बार कोड संख्या क्रमश: 206964520 और 208868922 थी। लेकिन यह बार कोड प्रियंका के ही स्कूल की छात्र संतुष्टि कुमारी के विज्ञान और संस्कृत की उत्तर पुस्तिका पर डाल दिया गया। उत्तर पुस्तिका पर बारकोडिंग का काम राजकीय कन्या उच्च विद्यालय, सहरसा केंद्र पर उप विकास आयुक्त सहरसा के निर्देशन पर किया गया था।

लिखावट से हुई कॉपी की पहचान हाईकोर्ट के आदेश के बाद जब प्रियंका सिंह को उसकी उत्तर पुस्तिका मिली तो उसमें लिखावट में बदलाव था। हाईकोर्ट ने प्रियंका सिंह से लिखवा कर भी देखा। लिखावट में बदलाव देख कर हाईकोर्ट ने बिहार बोर्ड को जल्द से जल्द प्रियंका सिंह के रिजल्ट में सुधार करने का आदेश दिया। बता दें कि बिहार बोर्ड ने मूल्यांकन में गोपनीयता रखने के लिए कॉपियों की बारकोडिंग की थी। पर एजेंसी की गलती से परीक्षार्थियों की कॉपी बदल गई।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!