अगले सप्ताह से बिहार में भी होगा कोरोना वैक्सीन का ट्रायल, …जानिए

बिहार। औषधि महानिदेशक की अनुमति के बाद राजधानी पटना में स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में अगले सप्ताह से कोरोना वैक्सीन (कोवैक्सीन) का ह्यूमन ट्रायल होगा। इंडियन कॉउन्सिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) और भारत बायोटेक की साझेदारी से तैयार इस वैक्सीन का जानवरों पर परीक्षण सफल रहा है। अब इसके ह्यूमन ट्रायल की प्रक्रिया शुरू हो गई है। पटना एम्स की तरफ से इस बात को लेकर तैयरियां शुरू कर दी गई है।

पटना एम्स के निदेशक डॉक्टर पीके सिंह ने बताया कि शनिवार को संबंधित कंपनी व विभागीय अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर चर्चा होगी। इसके बाद ये वैक्सीन आएगी। वैक्सीन की डोज देने से पहले डॉक्टरों को प्रशिक्षित किया जाएगा। इसके बाद ह्यूमन ट्रायल आरंभ होगा।

‘कोवैक्सीन’ को भारत बायोटेक ने तैयार किया है
देश में कोरोना की पहली वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ को हैदराबाद की फार्मा कंपनी भारत बायोटेक ने तैयार किया है। इसे आईसीएमआर और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे के साथ मिलकर बनाया गया है। जानवरों पर इसका ट्रायल कामयाब रहा है। इंसानों पर परीक्षण के लिए इसे हाल ही में मंजूरी मिली है। ये ट्रायल इसी महीने शुरू हो रहे हैं।

भारत में तैयार की गई कोरोना वैक्सीन 15 अगस्त को लॉन्च की जा सकती है
आइसीएमआर ने क्लीनिकल ट्रायल करने वाली संस्थाओं से कहा है कि 7 जुलाई से कोवैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल शुरू करना चाहिए, इसमें बिल्कुल देरी नहीं होनी चाहिए, ताकि नतीजे आने के बाद 15 अगस्त तक कोवैक्सीन लॉन्च की जा सके। हालांकि, अंतिम परिणाम सभी क्लीनिकल ट्रायल कामयाब होने पर ही निर्भर करेगा।

पढ़े :   सिर्फ गरीब हिन्दू ही नहीं बल्कि हर संप्रदाय के गरीब भी आएंगे 10 फीसदी आरक्षण के दायरे में, ...जानिए

इस संबंध में आईसीएमआर के डायरेक्टर जनरल बलराम भार्गव ने कोवैक्सीन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक और इसका क्लीनिकल ट्रायल करने वाली 12 संस्थाओं को चिट्ठी लिखी है। लीक चिठ्ठी में 15 अगस्त तक वैक्सीन तैयार करने की बात थी। अब तक मिल रही जानकारी के मुताबिक ये 12 संस्थाएं आंध्रप्रदेश, हरियाणा, महाराष्ट्र, बिहार, कर्नाटक, तेलंगाना, उत्तरप्रदेश, तमिलनाडु और ओडिशा में हैं।

Leave a Reply