सात समंदर पार स्कॉटलैंड के पटना में कुछ इस तरह मनाया गया बिहार दिवस

बिहार दिवस का अायोजन न सिर्फ सूबे में हो रहा है बल्कि सात समंदर पार भी यह धूमधाम से मनाया जा रहा है। स्कॉटलैंड के पूर्वी आयरशायर क्षेत्र में स्थित एक छोटे से कस्बे पटना में बिहार की राजधानी के साथ उसके ऐतिहासिक संबंधों को प्रदर्शित के लिए मंगलवार को बिहार दिवस का अयोजन किया गया।

स्कॉटिश कृषि विशेषज्ञ विलियम फलार्टन ने अपने स्केल्डोन एस्टेट और कोलफील्ड में काम करने वालों को आवास मुहैया कराने के लिए 1802 में पटना बसाया था। इस कस्बे को उन्होंने बिहार की राजधानी पटना नाम दिया था। फलार्टन का जन्म पटना में ही हुआ था और जिंदगी के शुरू के वर्ष वहीं गुजरे थे। फलार्टन ने स्कॉटलैंड में अपने पिता सर्गेओन विलियम फलार्टन की याद में पटना कस्बा बसाया। विलियम ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी से संबद्ध थे और 1744 से 66 तक वह भारत में रहे। इस दौरान स्थानीय इतिहासकारों, पेंटरों, कलाकारों और व्यापारियों से उनके अच्छे संपर्क बने थे।

भारतीय उच्चायुक्त वाईके सिन्हा बिहार दिवस के मुख्य अतिथि थे। मूल रूप से बिहार के रहने वाले सिन्हा ने दोनों शहरों के बीच संबंध को और प्रगाढ़ करने के लिए सभी संभव सहायता देने का वादा किया। उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम और आधुनिक भारत के निर्माण में पटना शहर की भूमिका के बारे में भी अवगत करवाया। उन्होंने कहा कि पटना हमेशा से शिक्षा और व्यापार का महत्वपूर्ण केंद्र रहा है।

इस कार्यक्रम में एक प्रदर्शनी का भी आयोजन किया गया जिसमें छठ पूजा, समा चकेवा, तीज, भगवान बुद्ध, भगवान महावीर और गुरु गोविंद सिंह के बारे में जानकारी के अलावा बिहार के दूसरे बड़े पर्वों की झलक दिखायी गयी थी। गौरतलब है की बिहार दिवस हर साल 22 मार्च को मनाया जाता है। इसी दिन ब्रिटिश सरकार ने 1912 में बंगाल प्रेसिडेंसी से अलग बिहार प्रदेश का गठन किया था।

पढ़े :   बिहार की गोल्डन गर्ल को मिलेगा खेल का प्रतिष्ठित अर्जुन पुरस्कार, ...जानिए

Leave a Reply

error: Content is protected !!