अब बिहार की सब्जियों का कुवैत के बाजार पर होगा कब्जा, …जानिए

बिहार सरकार के कृषि विभाग को सब्जियों के लिए कुवैत से एक प्रस्ताव आया है। जिसे कृषि विभाग ने स्वीकार कर लिया है। पिछले साल बिहार में सब्जियों का बंपर उत्पादन हुआ था। इस वजह से कृषि विभाग ने ना सिर्फ इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया, बल्कि बिहार की सब्जियों को कुवैत भेजने की तैयारी भी शुरू कर दी है।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अक्सर कहते हैं कि आने वाले समय में देश ही नहीं बल्कि हर विदेशी खाने की थाली में एक बिहारी व्यंजन होगा। ये अब सच होने जा रहा है। कुवैत के भोजन की थाली तक बिहारी सब्जी अपनी पहुंच बनाने को तैयार है।

बिहार सरकार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने बताया कि दरअसल कुवैत के वेजिटेबल इंपोर्टर्स फेडरेशन के अध्यक्ष डॉ. अरशद मोहसीन ने बिहार सरकार के कृषि विभाग को सब्जियां भेजने का एक प्रस्ताव भेजा है। जिसे स्वीकार कर लिया गया है। इसके साथ ही कृषि विभाग ने सब्जियों को कुवैत भेजने की तैयारी शुरू कर दी है।

इतना ही नहीं कृषि विभाग ने कुवैत के इस फेडरेशन को ना सिर्फ सब्जी बल्कि बिहार की जो विशेष पहचान वाली सब्जियां और फल हैं, उन्हें भी कुवैत भेजने का प्रस्ताव दिया है। लीची, आम, मखाना, पान के संबंध में यह प्रस्ताव दिया गया है। बिहार में पटना से भागलपुर तक के नौ जिलों में जैविक सब्जी का बड़े पैमाने पर उत्पादन हो रहा है।

बता दें, बिहार में 2016-17 के दौरान 166 लाख मिट्रीक टन सब्जी और 42 लाख मिट्रीक टन फलों का उत्पादन हुआ। कृषि विभाग को आगे भी उत्पादन में और बढ़ोत्तरी की उम्मीद है। ऐसे में सरकार ना सिर्फ कुवैत बल्कि पूरे मीडिल इस्ट के बाजार पर बिहारी सब्जी का कब्जा जमाने की योजना बना रही है।

पढ़े :   स्कॉलरशिप, साइकिल-पोशाक और पेंशन के लिए आधार कार्ड जरूरी, पढें अन्य दूसरे फैसले

Leave a Reply

error: Content is protected !!