वेतन आयोग: बिहार के राज्य कर्मियों को भी केंद्र की तर्ज पर भत्ता, …जानिए

बिहार राज्य वेतन आयोग ने राज्य कर्मियों को मिलने वाले भत्तों को लेकर अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को मंगलवार को सौंप दी। संभावना है कि राज्य कैबिनेट की अगली बैठक में इसे मंजूरी मिल जाए। आयोग ने केंद्र की तर्ज पर राज्यकर्मियों को भी भत्ता देने की सिफारिश की है।

राज्य कर्मियों का आवास भत्ता तीन तरह का होगा। राज्य के नौ लाख 60 हजार कर्मियों और पेंशनधारियों को इसका लाभ मिलेगा। पटना में रहने वालों को मूल वेतन का 16 फीसदी, अन्य बड़े शहरों में रहने वालों को आठ फीसदी और अन्य को चार फीसदी आवास भत्ता मिलेगा। पहले यह क्रमश: 20, 10 और पांच फीसदी था।

सातवां वेतनमान लागू होने के बाद राज्य कर्मियों के मूल वेतन में वृद्धि हुई है। इसलिए अब इस मूल वेतन पर ही भत्ता तय होगा। जो मौजूदा भत्ता से अधिक होगा।

गौरतलब हो कि केंद्रीय सातवें वेतनमान को लेकर अपनी अनुशंसा देने के लिए जनवरी-2017 से राज्य वेतन आयोग काम कर रहा था। पहले आयोग ने वेतनमान पर अपनी रिपोर्ट दी। इसका आर्थिक लाभ अप्रैल 2017 से लागू है। अब भत्ता पर आयोग ने रिपोर्ट दी है।

पूर्व मुख्य सचिव जीएस कंग की अध्यक्षता में आयोग का गठन किया गया। वित्त विभाग के सचिव राहुल सिंह और ग्रामीण कार्य विभाग के सचिव विनय कुमार आयोग के सदस्य हैं।

कैशलेस इलाज की सुविधा
राज्य कर्मियों को भारत के विभिन्न अस्पतालों में कैशलेस इलाज की सुविधा देने की अनुशंसा भी आयोग ने की है। अब तक कर्मियों को इलाज कराने के बाद राज्य सरकार को बिल देना पड़ता था। इसके बाद प्रतिपूर्ति होती है। सेवानिवृति के समय अंतिम महीने का वेतन कर्मचारी सरकार को सरेंडर कर देंगे तो सेवा बाद भी उन्हें उक्त सुविधा का लाभ मिलेगी। ओपीडी के लिए मेडिकल भत्ता 250 से बढ़ा कर एक हजार करने की अनुशंसा की गई है।

पढ़े :   बेनीपट्टी को ग्रीन व क्लीन बनाना हमारा उद्धेश्य : एसडीपीओ

Rohit Kumar

Founder- livebiharnews.in & Blogger- hinglishmehelp.com | STUDENT

Leave a Reply

error: Content is protected !!