मुजफ्फरपुर समेत 7 जिलों में बनेगा बालाजी तिरुपति वेंकटेश्वर मंदिर, …जानिए

दक्षिण भारत का प्रसिद्ध तिरुपति वेंकटेश्वर मंदिर का विस्तार बिहार के मुजफ्फरपुर, पटना समेत 7 जिलों में भी हो सकता है। तिरुपति वेंकटेश्वर मंदिर के कार्यपालक पदाधिकारी अनिल कुमार सिंह ने बिहार के मुख्य सचिव को इसकी जानकारी देते हुए मंदिर निर्माण के लिए चयनित स्थानों पर 10-10 एकड़ जमीन उपलब्ध कराने को कहा है।

यह जमीन मुफ्त या मामूली कीमत पर उपलब्ध कराने का आग्रह किया गया है। साथ ही उपलब्ध जमीन के लिए मुख्य सड़क से जुड़े होने की शर्त रखी गई है। इस पहल पर राज्य सरकार ने दिलचस्पी ली है। राजस्व व भूमि सुधार विभाग ने मुजफ्फरपुर के अलावा पटना, गया, नालंदा, वैशाली, भागलपुर व बांका के डीएम को इस योजना पर मंतव्य के साथ रिपोर्ट देने का आग्रह किया है।

प्रतिवर्ष दस करोड़ लोग बालाजी के दर्शन को पहुंचते हैं मंदिर
भगवान वेंकटेश्वर की ‘दिव्य क्षेत्रम’ योजना के तहत देश के सभी राज्यों की राजधानी या मुख्य शहर में मंदिर का विस्तार किया जाना है। इसके लिए तिरुपति देवस्थानम के कार्यपालक पदाधिकारी ने मुख्य सचिव को लिखे पत्र में बताया है कि प्रतिवर्ष दस करोड़ लोग बालाजी तिरुपति वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर में दर्शन करते आते हैं।

बिहार से तिरुपति तक आने में 48 घंटे का समय लगता है। काफी संख्या में श्रद्धालु बिहार से भी दर्शन के लिए पहुंचते हैं। इसको देखते हुए तिरुमाला, तिरुपति देवस्थानम समिति ने बिहार से सात जिलों में मंदिर का निर्माण कराने का निर्णय लिया है। मंदिर के निर्माण से क्षेत्र में पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। इन स्थानों पर बालाजी तिरुपति वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर की तरह ही सभी प्रकार के निर्माण कार्य होंगे। प्रसाद के लिए नैवेद्यम की व्यवस्था भी रहेगी।

पढ़े :   गेट रिजल्ट में बिहार का लाल देशभर में बना टॉपर

मुख्य मंदिर के बगल में दो अन्य मंदिरों का भी होगा निर्माण
बालाजी के मुख्य मंदिर के साथ दो अन्य मंदिर का निर्माण भी कराया जाएगा। इसके साथ ही यहां पर नैवेद्यम बनाने के लिए एक बड़ा सा किचन, किसी प्रकार के समारोह के आयोजन के लिए भव्य उत्सव मंडप, देवी राधा के मंदिर के पास राधा मंडप, भगवान भहानाम के लिए भहानाम मंडप, उत्सव के मौके पर श्रद्धालुओं के स्नानादि के लिए बड़े व गहरे आकार के पुष्करणी तालाब का निर्माण भी इस स्थान पर कराया जाएगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!