बिहार में सभी शैक्षणिक संस्‍थान बंद, …जानें पहले से निर्धारित परीक्षाओं पर क्या हुआ फैसला

बिहार में कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए राज्य सरकार ने राज्य के सभी शैक्षणिक संस्‍थान (स्कूल, कॉलेज और कोचिंग) को 11 अप्रैल तक बंद रखने का निर्णय लिया है। पहले से निर्धारित परीक्षाएं स्कूल व कॉलेज प्रशासन आवश्यकतानुसार कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए ले सकेंगे।

संक्रमण रोकने को लेकर सरकार के अन्य फैसले, एक नजर
– शादी व अंतिम संस्‍कार को छोड़ सभी सार्वजनिक आयोजनों पर अप्रैल तक प्रतिबंध लगा दिया गया है। शादी-ब्याह में अधिकतम 250 और श्राद्ध में अधिकतम 50 लोग ही शामिल हो सकेंगे।
– सरकारी दफ्तरों के बारे में यह निर्देश है कि महकमे के प्रधान यह तय करेंगे कि कितनी संख्या में सुरक्षित दूरी का अनुपालन करते हुए कर्मियों को दफ्तर बुलाया जा सकता है। साथ ही 30 अप्रैल तक सरकारी कार्यालयों में बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर प्रतिबंघ लगा दिया गया है।
– 15 अप्रैल तक सार्वजनिक वाहनों में क्षमता के 50 फीसद से अधिक यात्री नहीं बैठाए जाएंगे।
– सभी जिलाधिकारियों एवं पुलिस अधीक्षकों को अपने जिलों में कोरोनावायरस संक्रमण रोकने को लेकर जारी केंद्र सरकार की ताजा गाइडलाइन का सख्ती से पालन कराने का निर्देश दिया गया है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की कोरोना को लेकर शनिवार को हुई उच्चस्तरीय बैठक के बाद हुई क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में यह फैसला लिया गया। आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत के अनुसार फिलहाल आरंभिक बंदी का फैसला लिया गया है। परिस्थियों के अनुसार आगे का फैसला लिया जाएगा।

पढ़े :   छठ पूजा के पहले नियोजित शिक्षकों को मिलेगा इतने महीने का वेतन, ...जानिए