बिहार की बेटी को गूगल से एक करोड़ का पैकेज, …जानिए

बिहार के खगौल की रहने वाली मधुमिता को गूगल ने एक करोड़ का पैकेज दिया है। मधुमिता को विश्व की सबसे नामचीन कंपनी गूगल ने 7 राउंड के इंटरव्यू के बाद बुलावा भेजा। मधुमिता को सोमवार को स्विट्जरलैंड में गूगल के हेड ऑफिस में ज्वॉइन करना है। मधुमिता को टेक्निकल सॉल्यूशन इंजीनियर के पद पर गूगल ने स्विट्जरलैंड के हेड ऑफिस के लिए नियुक्त किया है।

मधुमिता की मां चिंता शर्मा के मुताबिक, मधुमिता का बचपन से ही गूगल जैसी कंपनी में काम करने का सपना देखती थी। आज उसकी कड़ी मेहनत से यह सपना साकार हो गया। उसकी कामयाबी देखकर हमसभी बहुत खुश हैं।

बता दें, मधुमिता ने विदेश में ढाई महीने में गूगल के लगातार सात राउंड में होने वाले इंटरव्यू को पास किया। इंटरव्यू को पास करने वालीं मधुमिता भारत की एक मात्र कैंडीडेट थीं, जिन्हें गूगल ने सलेक्ट किया है।

मधुमिता की एक बहन डॉक्टर और एक भाई इंजीनियर है। पिता सुरेंद्र शर्मा सोनपुर रेल मंडल में सहायक आरपीएफ कमांडेंट हैं और माता घरेलू महिला है। रेलवे से रिटायर दादा चंद्रदेव सिंह का कहना है कि बेटी है इसलिए बाहर भेजने में डर लगता है। फिर भी बेटी ने नाम रौशन किया है। मधुमिता खुद बहुत निडर भी है।

मधुमिता सिर्फ अपनी कामयाबी के लिए ही नहीं सोचती थी, बल्कि अपनी बड़ी बहन और भाई की कामयाबी के लिए सोचती थी। ऊंचे शिखर पर जाने की ख्वाइश और दिन रात कड़ी मेहनत कर मर्सिडीज, अमेज़न जैसी बड़ी कंपनियों में सफलता हासिल करते हुए वर्तमान में सात चरणों का इंटरव्यू पास कर एक करोड़ सालाना के पैकेज पर गूगल कंपनी के स्विट्जरलैंड स्थित ऑफिस में काबिज हो जाएंगी।

पढ़े :   पनडुब्बी 'खांदेरी' भारतीय नौसेना में शामिल, टॉरपीडो के साथ ट्यूब से भी दागेगी एंटी शिप मिसाइल

बिहार के छोटे कस्बे खगौल की रहने वाली और बड़े कॉलेजों में शिक्षा नहीं मिलने के बाबजूद मधुमिता ने एक बड़ा पैकेज लेकर बिहार ही नहीं देश में बेटियों का मान बढ़ाया है। माता पिता और परिवारवालों के साथ साथ खगौलवासी भी काफी खुश हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!