बिहार: गर्मी से पहले ही लोगों के छूटे ‘पसीने’, बिजली दर में अब तक की सबसे बड़ी वृद्धि

बिहार के लोगों को गर्मी से पहले सरकार ने बड़ा झटका दिया है। ये झटका लोगों को बिजली की नई दरों से लगा है। शुक्रवार को बिजली नियामक आयोग ने बिजली की दरों में बढ़ोत्‍तरी की मंजूरी दे दी।

आयोग के अध्यक्ष एसके नेगी ने पटना में नये दरों की घोषणा की। मंजूरी मिलने के बाद बिजली दर में 55 फीसदी तक का इजाफा किया गया है। पिछले कुछ समय से बिजली की दर बढ़ाने की बात हो रही थी।

गुरुवार को विधानपरिषद में ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव ने बजट पर चर्चा के बाद जवाब में बिजली दर में बढ़ोतरी के संकेत दिये थे। उन्होंने कहा कि पिछले तीन साल से बिजली दर में बढ़ोतरी नहीं हुई। बिहार से सटे यूपी, झारखंड, पश्चिम बंगाल से कम बिजली दर यहां है। उन्होंने कहा कि बिजली दर में बढ़ोतरी के लिए सरकार अधिकृत नहीं है। बिजली दर में बढ़ोतरी का काम विद्युत विनियामक आयोग करती है। लेकिन दरों में इतनी वृद्धि होगी इसका अंदाजा शायद ही किसी को था।

बिजली नियामक आयोग की बैठक में बिजली दर बढ़ाने के फैसले को पारित कर दिया गया। बिजली दरों में 55 फीसदी तक का इजाफा किया गया है। आयोग के अध्यक्ष नेगी ने कहा कि बिजली को दरों को पिछले सालों में हुए घाटे को देखते हुए 75 फीसदी तक बढ़ाने का प्रस्ताव दिया गया था लेकिन आयोग ने दरों को अन्य राज्यों की बिजली रेट का अध्ययन करने के बाद 55 फीसदी तक बढ़ाने का फैसला लिया है।

राज्य में पहली बार बिजली की दरों में इतनी अधिक वृद्धि हुई है। इससे पहले कभी भी एक बार 55 फीसदी की वृद्धि नहीं की गई थी। बोर्ड ने यह फैसला 2016-17 में हुए राजस्व घाटे को देखते हुए लिया है। बिजली की नई दरें एक अप्रैल 2017 से लागू होंगी।

पढ़े :   बिहार में 4100 मेगावाट की रिकॉर्ड आपूर्ति, पहली बार मिली इतनी बिजली

अध्यक्ष नेगी ने कहा कि साल 2016 में विद्युत विनियामक आयोग ने कई बार जन सुनवाई करने के बाद भी बिजली की दरों में कोई बढ़ोतरी नहीं की थी। पिछले साल बिजली की दरों में कोई वृद्धि नहीं होने की वजह से विभाग को खासा घाटा उठाना पड़ा था और वित्तीय वर्ष 2017-18 में बिजली दर का बढ़ना तय माना जा रहा था।

ये हैं नई दरें..
1. शहरी क्षेत्र में 1-100 यूनिट तक अब देने होंगे 5.75 रु प्रति यूनिट, पहले देना होता था 3 रुपये प्रति यूनिट
2. 101 से 200 यूनिट पर अब देने होंगे 6.50 रुपये प्रति यूनिट, पहले देना होता था 3.63 रुपये प्रति यूनिट
3. 200 से 300 यूनिट पर अब देने होंगे 7.25 रूपये प्रति यूनिट
4. शहरी क्षेत्र में 300 से अधिक यूनिट पर देने होंगे 8 रू. प्रति यूनिट
5. ग्रामीण क्षेत्र में 1-50 यूनिट तक अब देने होंगे 5.75 रुपये प्रति यूनिट
6. ग्रामीण क्षेत्र में 51 से 100 यूनिट तक अब देने होंगे 6 रुपये प्रति यूनिट
7. ग्रामीण क्षेत्र में 100 से अधिक यूनिट पर देने होंगे 6.25 रु.प्रति यूनिट

Rohit Kumar

Founder- livebiharnews.in & Blogger- hinglishmehelp.com | STUDENT

Leave a Reply

error: Content is protected !!