बिहार का हर घर हुआ रोशन केंद्र सरकार ने किया एलान, …जानिए

बिहार के सभी घर रोशन हो गए। गुरुवार को केंद्र सरकार ने इसका औपचारिक एलान कर दिया। इस समय (25 अक्तूबर) राज्य के कुल 1,39,63,909 घरों में बिजली कनेक्शन है। हर घर बिजली राज्य सरकार के सात निश्चय में शामिल है, जिसे तय समय से दो महीने पहले ही पूरा कर लिया गया है। राज्य सरकार की ओर से भी इससे संबंधित औपचारिक घोषणा एक नवंबर को समारोह के दौरान होने की संभावना है। इस समय राज्य में बिजली की प्रतिदिन औसत खपत 4500 मेगावाट से अधिक है।

बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी लिमिटेड के सूत्रों का कहना है कि हर घर बिजली पहुंचाने की तय अंतिम तिथि 31 दिसंबर, 2018 थी। बिजली कंपनी ने युद्ध स्तर पर काम करके तय समय के पहले की लक्ष्य प्राप्त कर लिया है। केंद्र सरकार की ताजा रिपोर्ट के अनुसार सौभाग्य योजना के तहत घर-घर बिजली पहुंचाने के मामले में बिहार का प्रदर्शन इस समय पूरे देश में सबसे बेहतर है।

एक और निश्चय पूरा
2015 में एक बार फिर सत्ता में आने के बाद नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री के सात निश्चय कार्यक्रम हर घर बिजली योजना को शामिल किया था। विद्युतीकरण के बिहार के इस मॉडल से प्रभावित केंद्र सरकार ने पिछले साल 25 सितंबर को सौभाग्य योजना की शुरुआत की। पहले चरण में बिहार के सभी 39,073 गांवों में 28 दिसंबर, 2017 को बिजली पहुंचा दी गयी। इसके बाद युद्धस्तर पर काम करके मई, 2018 तक सभी 1,06,249 टोलों में बिजली पहुंचायी गयी।

इसके बाद बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी पूरी तरह हर घर बिजली योजना तहत सभी घरों को कनेक्शन देने के काम में जुट गयी। इस बात की जांच की गयी कि कोई घर छूटा तो नहीं है। इसके लिए ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने 11 अक्टूबर को एक पत्र जारी कर कहा था कि यदि किसी के घर बिजली नहीं पहुंची हो तो इसकी जानकारी दे सकते हैं। छूटे घरों को तत्काल बिजली कनेक्शन देने का भी प्रावधान किया गया।

25 सितंबर 2017 से शुरू केंद्र की सौभाग्य योजना बिहार मॉडल से प्रभावित थी। इससे पहले ही बिहार में सीएम नीतीश कुमार ने सात निश्चय में शामिल हर घर बिजली योजना के तहत राज्य के सभी घरों में मुफ्त बिजली कनेक्शन देने का एलान किया था। इस योजना में कैंप आयोजित कर हर घर तक बिजली कनेक्शन देना सुनिश्चित किया गया। इसे सौभाग्य योजना में भी अपनाया गया, जिसका मकसद देश में बिजली की सुविधा से वंचित करीब चार करोड़ गरीब परिवारों को 2018 तक मुफ्त बिजली कनेक्शन देना था। यह बिजली कंपनी के सभी कर्मियों की सतत मेहनत का परिणाम है। बिहार के हर घर में बिजली पहुंचने से यहां विकास की रफ्तार तेज होगी। – आर लक्ष्मणन, एमडी, साउथ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी

पढ़े :   बिहार-झारखण्ड पर मोदी सरकार मेहरबान: उत्तरी कोयल परियोजना के लिए 1622 करोड़ मंजूर

Leave a Reply