यहां सरकारी कर्मी कार्यालय पहुंच कर लेते हैं सेल्‍फी फिर शुरू करते हैं काम …जानिए

विकास कार्यों में गति लाने और लापरवाह अधिकारियों पर नियंत्रण कसने को लेकर बिहार के मुंगेर जिला के डीएम आनंद शर्मा ने सेल्फी अटेंडेंस बनाने की नई प्रणाली की शुरुआत की है। संसेवा एेप के नाम से शुरू इस एप्लिकेशन का पहला प्रयोग ग्रामीण विकास विभाग में किया गया है। वहां यह पूरी तरह से असरदार दिख रहा है। दूसरे चरण में इसकी शुरुआत जिला स्तर पर स्वास्थ्य विभाग में की गई है। अब इसे कृषि विभाग में लागू करने की तैयारी है।

सेल्‍फी अटेंडेंस के लिए ग्रामीण विकास, शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि आदि विभाग के अधिकारियों और कर्मियों का डाटाबेस तैयार किया गया। इसके बाद संसेवा ऐप से सभी कर्मियों एवं अधिकारियों को जोड़ा गया है। वहां सभी की उपस्थिति सेल्फी के माध्यम से दर्ज होने लगी है। इसका सीधा असर अब सरकारी कार्यालयों की कार्यप्रणाली पर दिखाई देने लगा है।

देर से कार्यालय आने वाले कर्मियों एवं अधिकारियों पर अंकुश लगा है। फील्‍ड से गायब रहने वाले अधिकारियों एवं कर्मियों पर भी अंकुश लगा है। संसेवा एेप का सबसे सकारात्मक परिणाम यह निकला है कि अब कार्यालय में बैठ कर योजनाओं के निरीक्षण की रिपोर्ट तैयार करने की प्रवृति पर पूरी तरह से अंकुश लग गया है।

जीपीएस से कनेक्ट है एेप
बिना कारण अपने कार्य क्षेत्र से अधिकारी व कर्मी बाहर न जाएं, इसे रोकने के लिए एप को जीपीएस से कनेक्ट किया गया है। अधिकारी जहां भी रहेंगे उनका लोकेशन वरीय अधिकारी को मिलता रहेगा। अधिकारी व कर्मी अपने कार्य क्षेत्र से बाहर पाए जाने पर एप द्वारा ऑटोमेटिक स्पष्टीकरण जनरेट कर दिया जाता है।

पढ़े :   बिहार में कई IAS अफसरों का तबादला, ...जानिए

कैसे करता है काम
कर्मी या पदाधिकारी अपने निबंधित मोबाइल नंबर वाले एनड्रायड फोन से सेल्फी लेकर अपनी उपस्थिति अपलोड करते हैं। सेल्फी लेते ही उनका जीपीएस लोकेशन दर्ज हो जाता है। सेल्फी लेने वाले अधिकारी व कर्मी का चेहरा एेप स्वत: पहचान लेती है। हाईली एडवांस टेक्नोलॉजी युक्त यह ऐप जियो फेंसिंग, वर्चुअल इमेज, जीपीएस आदि तकनीकों से लैस है। 

उपयोग से दिखने लगा असर
डीएम आनंद शर्मा ने कहा कि जिस उद्देश्य को लेकर इसकी शुरुआत की गई थी, उसका असर देखने को मिल रहा है। शुरुआती दौर में थोड़ी परेशानी जरूर आई, लेकिन अब पूरी तरह यह व्यवस्थित रूप से कार्य कर रहा है। इसकी शुरुआत से कार्य में गति देखने को मिल रहा है। सात निश्चय योजना, टीकाकरण आदि योजनाओं में गति आई है।

Leave a Reply

error: Content is protected !!