अब कचरे से रोशन होंगे घर! CM नीतीश ने किया वेस्ट टू इनर्जी प्लांट का शिलान्यास, …जानिए

बिहार में अब कचरे से घर रोशन होंगे। गंदगी तो खैर समाप्‍त होगी ही। यह हकीकत होने जा रहा है। जी हाँ, कचरे को सरकार घर-घर से उठवाएगी। उसके बाद उस कचरे से बिजली तैयार की जाएगी। इसके लिए सरकार ने अमेरिका की एक कंपनी से करार किया है। 

इसके लिए सोमवार को मुख्‍यमंत्री ने पटना सचिवालय स्थित संवाद कक्ष से पटना नगर निगम क्षेत्र में डोर-टू-डोर कचरा संग्रह योजना का आरंभ किया। इसके साथ ही वेस्ट टू इनर्जी प्लांट का शिलान्यास भी किया। इस कार्यक्रम में नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश शर्मा, पटना की मेयर सीता साहू तथा विभाग के प्रधान सचिव चैतन्य प्रसाद भी मौजूद थे। 

अब कचरा से बनेगी बिजली
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पिछले कई वर्षों से यह प्रयास हो रहा था कि पटना में जो कचरा निकलता है उससे बिजली तैयार की जाए। अब अमेरिकी की कंपनी से इसके लिए करार हुआ है। एक साल में यह प्लांट बनकर तैयार हो जाएगा और 280 मेगावाट बिजली मिलने लगेगी। इस प्लान से पूरे बिहार में बिजली आपूर्ति की जाएगी।

यह प्लांट राजधानी पटना में पैदा होने वाले कचरे से बिजली का उत्पादन करेगा। मालूम हो कि राजधानी पटना में हर रोज करीब 750 मीट्रिक टन कचरा निकलता है। इस कचरे को खरीदने के लिए यह प्लांट ₹770 प्रति मीट्रिक टन रेट से पटना म्युनिसिपल कॉरपोरेशन (PMC) को भुगतान करेगा। इसके अलावा प्रतिदिन ताजा दो लाख लीटर पीने योग्य पानी और शून्य कार्बन डीजल या खाना पकाने वाली दो लाख लीटर गैस का उत्पादन भी हो सकता है। इससे डीजल या एलपीजी गैस का कीमत कम होगी। 

पढ़े :   आज रिलीज होगी देश के पहले महिला बैंड पर बनी डॉक्यूमेंट्री फिल्म, ...जानिए

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुजफ्फरपुर में कचरे का उचित प्रबंधन कर उसे उर्वरक के रूप में बदला जाएगा। अलग-अलग शहरों के लिए वहां की उपयोगिता के अनुसार कचरे का प्रबंधन किया जाएगा। इस अभियान से बिहार स्वच्छ भी बनेगा और लोगों को बिजली, पानी, डीजल, गैस, उर्वरक … इत्यादि  भी मिलेगी।

सफाइ के लिए मानसिकता परिवर्तन जरूरी
मुख्यमंत्री ने कहा कि खुले में कचरा न फेंका जाए, इसके लिए मानसिकता में परिवर्तन आवश्यक है। नगर निगम या फिर सरकार के स्तर पर चाहे जितना भी कर दिया जाए, जब तक लोगों में साफ-सफाई के प्रति जागृति नहीं होगी तब तक कुछ बदलाव नहीं हो सकता। मुख्यमंत्री ने यह अपील भी की कि लोग यह संकल्प लें कि 2019 के पहले खुले में शौच से मुक्ति दिला देंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि साफ-सफाई के प्रति जागरूकता का होना सबसे महत्वपूर्ण है। बापू ने सभी को स्वच्छता का संदेश दिया। सारे वार्ड सदस्यों को स्वच्छता को लेकर जन अभियान चलाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर पॉलिथीन पर प्रतिबंध लगाए जाने की बात भी कही। उन्होंने कहा कि 50 माइक्रोन से कम की प्लास्टिक को खत्म करना ही है।

उन्होंने सड़क पर घूमने वाले आवारा पशुओं की भी चर्चा की और यह निर्देश दिया कि जिला प्रशासन आवारा घूम रहे जानवरों को पकड़े और उन्हें गोशाला भेजे। पशु छुड़ाने आए लोगों से जुर्माना वसूला जाए। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर पटना नगर निगम के सफाई कर्मियों को खादी वस्त्र दिए जाने की योजना का आरंभ व सिटी ऑफ पटना एेप का लोकार्पण भी किया।

पढ़े :   बिहार बोर्ड: इंटर कंपार्टमेंटल का रिजल्ट जारी, 71.36% छात्र पास

पटना की मेयर सीता साहू ने इस मौके पर निगम के वार्ड पार्षदों को सरकार की ओर से मासिक भुगतान की बात उठाई थी। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने विभाग के प्रधान सचिव को यह कह दिया है कि विभाग के स्तर पर इसे तय करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब नगर विकास एवं आवास विभाग के लिए एक इंजीनियरिंग विंग बना दिया गया है। पूरे बिहार के नगर निकायों में इस विंग के माध्यम से काम होगा।

Leave a Reply

error: Content is protected !!