बिहार में 1 जून से बस समेत सभी तरह की परिवहन सेवाओं का परिचालन शुरू

बिहार सरकार ने लोगों को बड़ी राहत देते हुए सोमवार 1 जून से राज्य के अंदर बस समेत सभी पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन के परिचालन की अनुमति दे दी है। रविवार को क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में लिए गए निर्णय के आलोक में सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था को सुचारू रूप से लागू कराने की घोषणा की गई है।

इस संबंध में प्रदेश के सभी डीएम, एसएसपी और एसपी को निर्देश जारी कर दिया गया है। हालांकि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए बसों एवं सभी पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन का परिचालन एक सीट एक व्यक्ति के सिद्धांत के अनुसार किया जा सकेगा। वहीं राज्य में ई-रिक्शा, ऑटो रिक्शा, टैक्सी, ओला, उबर का परिचालन कंटेनमेंट क्षेत्र को छोड़कर अनुमान्य होगा। यानी की अब राज्य में ऑड-इवन का फार्मूला ऑटो और ई-रिक्शा के लिए लागू नहीं होगा। सभी गाड़ियों का परिचालन रोज होगा।

वाहन मालिकों/ड्राइवर/कंडक्टर के लिए यह निर्देश जारी किया गया है कि हर ट्रिप के बाद वाहन को सेनेटाइज किया जायेगा। वाहन को हर रोज धोने और साफ़-सुथरा रखने की भी जिम्मेदारी होगी। ड्राइवर और कंडक्टर मास्क, ग्लब्स और साफ़ कपड़े पहनेंगे। वाहन में यात्रिओं के अंदर चढ़ने या उतरने के समय सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना होगा। सीट के आलावा एक भी यात्री को वाहन में चढ़ने की अनुमति नहीं होगी। वाहन में सेनेटाइजर की उपलब्धता सुनश्चित हो और वाहन में चढ़ने से पूर्व यात्रिओं के हाथ को सेनेटाइज करवाएँगे। वाहन के अंदर एवं बाहर कोरोना वायरस से बचाव के उपायों सम्बन्धी पोस्टर/स्टीकर लगाएंगे और जिला प्रशासन के द्वारा उपलब्ध कराये गए पम्पलेट का वितरण यात्रियों के बीच सुनिश्चित करेंगे।

यात्रियों के लिए भी परिवहन विभाग की ओर से ख़ास दिशानिर्देश जारी किये गए हैं। यात्रा के दौरान मास्क पहनना अनिवार्य है, वरना यात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी। गाड़ी में चढ़ने से पहले सेनेटाइजर का प्रयोग करना अनिवार्य है। गाड़ियों के रेलिंग का प्रयोग कम से कम करना है। गाड़ी में चढ़ने और उतरने समय सोशल डिस्टन्सिंग का पालन करना होगा। वाहनों के अंदर पान, गुटखा, खैनी, तंबाकू खाते पकड़े जाने पर दंड भरना होगा। स्टैंड पर थूकते हुए पकड़े जाने पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। 65 साल के बुजुर्ग, 10 साल से कम के बच्चे और गर्भवती महिलाओं को वाहनों में यात्रा न करने की अपील की गई है। चिकित्सा या अन्य आवश्यक काम को लेकर ही इन्हें यात्रा करने की सलाह दी गई है।

पढ़े :   CBSE: नहीं होगा 10वीं कक्षा के गणित विषय का री-एग्जाम

जिला प्रशासन की ओर से सभी बस और टैक्सी स्टैंड पर मजिस्ट्रेट के साथ पुलिस की तैनाती की जाएगी। जो सुनिश्चित करेंगे की सोशल डिस्टन्सिंग, साफ़-सफाई सम्बंधित प्रोटोकॉल का अनुपालन हो। इसके अलावा प्रशासन की ओर से सभी बस मालिकों को कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर बचाव और सावधानियां संबंधित पम्पलेट दिए जायेंगे। जो यात्रियों के बीच बांटा जायेगा। साथ ही यात्रियों को यात्र-तत्र न थूकने, भीड़ न लगाने और मास्क पहनने की हिदायत दी जाएगी। नगर निकाय की ओर से स्टैंड की साफ़-सफाई और सेनेटाइजेशन सुनिश्चित की जाएगी।

Leave a Reply