अग्नि-4 बैलिस्टिक मिसाइल का प्रायोगिक परीक्षण कामयाब, मारक क्षमता 4000 किलोमीटर

भारत ने आज सोमवार को ओडिशा के अपतटीय क्षेत्र में एक परीक्षण स्थल से से परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम अग्नि -4 बैलिस्टिक मिसाइल का कामयाब प्रायोगिक परीक्षण किया। सतह से सतह पर मार करने वाली इस मिसाइल की मारक क्षमता 4,000 किलोमीटर है। बता दें कि 27 दिसंबर को अब्दुल कलाम आइलैंड से 5 किमी रेंज वाली अग्नि -5 हजार का टेस्ट कामयाब रहा था। बता दें कि भारत इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) बनाने वाला पांचवां देश है। अमेरिका, रूस, फ्रांस और चीन हमसे पहले इस तरह की मिसाइल डेवलप कर चुके हैं।

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के सूत्रों ने बताया कि मोबाइल लॉन्चर की मदद से, सुबह करीब 11 बजकर 55 मिनट पर अग्नि -4 को डॉ अब्दुल कलाम द्वीप स्थित एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) के परिसर संख्या चार से दागा गया। डॉ अब्दुल कलाम द्वीप को पूर्व में व्हीलर द्वीप के तौर पर जाना जाता था।

परीक्षण को सफल बताते हुए सूत्रों ने कहा कि देश में निर्मित अग्नि -4 का यह छठा प्रायोगिक परीक्षण था जिसने सभी मानकों को पूरा किया। पिछला परीक्षण नौ नवंबर 2015 को भारतीय सेना की विशेष तौर पर गठित सामरिक बल कमान (एसएफसी) ने किया था जो सफल रहा।

बीस मीटर लंबी और 17 टन वजन वाली इस मिसाइल की मारक क्षमता 4,000 किलोमीटर है और यह दो चरणीय मिसाइल है। डीआरडीओ के सूत्रों ने कहा, ” अत्याधुनिक एवं सतह से सतह पर मार करने वाली यह मिसाइल आधुनिक एवं महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी से लैस है जो इसे उच्चस्तरीय विश्वसनीयता प्रदान करती है। ”

पढ़े :   बांका के जिलाधिकारी को गुआना में CAPAM अवॉर्ड से किया गया सम्मानित

अग्नि -4 मिसाइल अत्याधुनिक वैमानिकी, पांचवी पीढ़ी के ऑन बोर्ड कंप्यूटर और संवितरित संरचना से लैस है। इसमें उड़ान के दौरान उत्पन्न होने वाली दिक्कतों को सही करने और मागर्दशन की तकनीक है। सूत्रों ने बताया कि जड़त्व दिशा-निर्देशन प्रणाली (आरआईएनएस) पर आधारित अति सटीक रिंग लेजर जाइरो तकनीक और अत्यंत विश्वसनीय माइक्रो नैविगेशन सिस्टम अचूक निशाने के साथ मिसाइल का लक्ष्य तक पहुंचना सुनिश्चित करते हैं।

अग्नि -1, 2 और 3 तथा पृथ्वी जैसी बैलेस्टिक मिसाइलें पहले से ही सशस्त्र बलों के बेड़े में हैं जो उन्हें प्रभावी प्रतिरोधक क्षमता प्रदान करती हैं।

सूत्रों ने बताया कि इस मिसाइल के सभी मानकों को परखने के लिए ओडिशा में समुद्र तट पर रडार और इलेक्ट्रो ऑप्टिकल प्रणालियां लगायी गई थीं। अंतिम घटनाक्रम पर नजर रखने के लिए लक्षित क्षेत्र में नौसेना के दो जहाज तैनात किए गए थे।

Leave a Reply