ISRO ने रचा इतिहास: अपने 100वें उपग्रह समेत लॉन्च किए 31 सैटेलाइट्स

अंतरिक्ष विज्ञान की दुनिया में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने शुक्रवार को एक और इतिहास रचते हुए अपने 100वें उपग्रह का अंतरिक्ष में प्रक्षेपण किया। चेन्नई से 110 किलोमीटर दूर स्थित श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से इस 100वें उपग्रह के साथ 30 अन्य उपग्रह (कुल वजन करीब 1323 किलोग्राम) भी अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किए गए। यह प्रक्षेपण इसरो का इस साल का पहला प्रक्षेपण है।

अपने इस 42वें मिशन के लिए इसरो ने भरोसेमंद कार्योपयोगी ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी40 को भेजा, जो कार्टोसेट-2 श्रृंखला के उपग्रह और 30 सह-यात्रियों को लेकर सुबह 9 बजकर 28 मिनट पर उड़ान भरी।

जिन 30 अन्य उपग्रहों को इसरो ने लॉन्च किया, इनमें भारत के दो और अन्य छह देशों के 28 उपग्रह शामिल हैं। भारतीय उपग्रहों में से एक 100 किलोग्राम का माइक्रो सैटेलाइट और एक पांच किलोग्राम का नैनो सैटेलाइट शामिल है। बाकी 28 सैटेलाइट कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और अमेरिका के हैं।

मिशन के फायदे

  • यह कार्टोसेट-2 शृंखला का तीसरा उपग्रह है, जिसे कक्षा में स्थापित किया जा रहा है।
  • इसमें पैक्रोमेटिक और मल्टी स्पेक्ट्रेल कैमरे लगे हैं, जो उच्च क्षमता की तस्वीरें लेने में सक्षम है।
  • तस्वीरों का इस्तेमाल, भू मानचित्र बनाने,सड़क नेटवर्क की निगरानी, जल वितरण में होगा।
  • भूसतह में आने वाले बदलावों की भी निगरानी उपग्रह से मिले तस्वीरों से होगी।
पढ़े :   अंतरिक्ष की दुनिया में ISRO ने रचा इतिहास: सबसे वजनी रॉकेट GSLV मार्क 3 का सफल प्रक्षेपण

Leave a Reply

error: Content is protected !!