लॉकडाउन 4 को लेकर बिहार सरकार ने जारी किया गाइडलाइंस

लॉकडाउन 4 को लेकर बिहार सरकार ने भी सोमवार को नये गाइडलाइंस जारी कर दिये हैं। गृह विभाग की तरफ से जारी इस गाइड लाइन में जो आदेश जारी किए गए हैं इनमें सभी जिलों के सभी प्रखंड मुख्यालयों (जिला मुख्यालय को छोड़कर) को रेड जोन के रूप में चिन्ह्रित किया है। प्रवासी मजदूरों के लगातार आने की वजह से यह निर्णय लिया गया है।

रेड जोन में उन्हीं सामानों की दुकानें खुली रहेंगी, जिन्हें खोलने की अनुमति पहले से गृह विभाग ने अपने 6 मई के गाइडलाइन में दे रखी हैं। इसके अतिरिक्त कोई नयी छूट नहीं प्रदान नहीं की गयी है। तमाम प्राबंदी पहले के समान की लागू रहेगी। इसके अलावा राज्य सरकार ने कहा है कि कंटेनमेंट जोन में कोई छूट नहीं दी जाएगी। उसमें केंद्र सरकार का गाइडलाइन लागु रहेगा।

राज्य के सभी कंटेनमेंट जोन और सभी प्रखंड मुख्यालयों (रेड जोन) को छोड़कर शेष अन्य सभी क्षेत्र एक समान समझे जायेंगे और उन क्षेत्रों में केंद्र सरकार के गाइडलाइन के अनुसार ही छूट रहेगी। इसके तहत सभी प्रकार की उपभोक्ता वस्तुओं की दुकानों* को नियंत्रित ढंग से खोला जाएगा। यहां यह ध्यान रखना आवश्यक होगा कि अत्यधिक भीड़ न हो। किसी एक स्थान पर स्थित अनेक दुकानों को बारी-बारी से सप्ताह के अलग-अलग दिन अथवा अलग-अलग समय पर खोलने का आदेश डीएम जारी करेंगे।

पढ़े :   ग्रीन लेडी के नाम से चर्चित बिहार की जया देवी को नेशनल लीडरशिप अवार्ड

ओला/उबर एवं अन्य टैक्सी सिर्फ चिकित्सीय कारणों के लिए तथा रेलगाड़ियों के यात्रा के लिए रेलवे स्टेशन तक जाने और आने के लिए करें। किराये के बसों का परिचालन जिला के अंदर तथा अंतरजिला पूर्णतया प्रतिबंधित रहेगा। इसके अतिरिक्त गाड़ियों/व्यक्तियों का अंतर जिला/जिला के अंदर परिचालन भी प्रतिबंधित रहेगा (अनुमान्य गतिविधियों को छोड़कर)। ऑटो रिक्शा के परिचालन के संबंध में परिवहन विभाग अलग से समुचित आदेश निर्गत करेगा।

ग्राहकों के लिए आवश्यक निर्देश आवश्यक सामग्री की खरीदारी अपने आसपास के दुकानों से ही करें दूर जाकर समानों की खरीदारी करने की अनुमति नहीं है। सरकारी कार्यालयों में उप सचिव या समकक्ष तथा उनसे वरीय अधिकारी शत-प्रतिशत एवं उनसे कनीय अधीनस्थ अधिकारी/कर्मचारी प्रतिदिन बारी-बारी से 33 प्रतिशत उपस्थित रहेंगे। प्राइवेट संस्थाओं के व्यवसायिक कार्यलयों में भी 33 प्रतिशत कर्मियों के साथ खोलने की अनुमति होगी।

* सभी उपभोक्ता वस्तुओं की दुकानों में शॉपिंग काॅम्प्लेक्स, मॉल और ठेला-रेहड़ी शामिल नहीं है। इन दुकानों में मुख्य रूप से कपड़ा, रेडिमेड वस्त्र, सैलून, ड्राई क्लिनिंग, फर्नीचर, बर्तन, साइकिल, स्पोर्टस, चप्पल-जूते, कॉस्मेटिक, चश्मा, किताब, ऑटो मोबाइल शो रूम व सर्विस सेंटर, इलेक्ट्रॉनिक व सर्विस सेंटर, निर्माण सामग्री, प्रदूषण जांच केंद्र, हाई सिक्यूरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट व स्पेयर पार्ट्स सहित अन्य दुकानें शामिल है।

Leave a Reply