बिहार विस में 18,313 करोड़ का अनुपूरक बजट पेश, …जानिए

पक्ष-विपक्ष के आरोप-प्रत्यारोप के बीच बिहार विधानमंडल का मॉनसून सत्र सोमवार को शुरू हो गया। बिहार विधानसभा में वित्तीय वर्ष 2017-18 का पहला अनुपूरक बजट किया गया।

विधानसभा में उपमुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी ने 2017-18 में होने वाले खर्च के लिए 18,313 करोड़ का पहला अनुपूरक बजट पेश किया। पहले अनुपूरक बजट में वार्षिक स्कीम मद में 10,463 करोड़, स्थापना व प्रतिबद्ध व्यय मद में 7087 करोड़ और केंद्रीय क्षेत्र स्कीम मद में 763 करोड़ का प्रावधान किया गया है। पहले अनुपूरक बजट पर 24 अगस्त को सदन में वाद विवाद होगा।

वहीं, पंचायती राज मंत्री कपिलदेव कामत ने बिहार पंचायत राज संशोधन अध्यादेश 2017 को भी सदन के पटल पर रखा।

राज्यपाल ने 12 विधेयकों को दी मंजूरी
बिहार विनियोग विधेयक 2017, बिहार विनियोग (संख्या-दो) विधेयक 2017, बिहार विधानमंडल (सदस्यों का वेतन, भत्ता व पेंशन) संशोधन विधेयक 2017, बिहार निजी विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक 2017, बिहार राज्य विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक 2017, पटना विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक 2017, बिहार विनियोग अधिकाइ व्यय (1981-82, 1983-84, 1987-88, 1991-92, 1996-97, 1997-98, 2003-04, 2005-06, और 2014-15) विधेयक 2017, बिहार जमाकर्ताओं के हितों का संरक्षण (वित्तीय स्थापनाओं में) संशोधन विधेयक 2017, बिहार माल और सेवा कर विधेयक 2017, बिहार कारा विधि संशोधन विधेयक 2017, बिहार राज्य विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक 2017 और पटना विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक 2017।

इसके अलावा बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने राज्यपाल की ओर से आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक 2016 को वापस किये जाने की सदन को जानकारी भी दी और राज्यपाल का संदेश पढ़ा। राज्यपाल ने विधेयक पर आपत्ति जताते हुए कहा है कि विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए 2008 में एक्ट बना था। इसमें विश्वविद्यालय का जो लक्ष्य और उद्देश्य बताया गया था, वह आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक 2016 में नहीं है। साथ ही 2008 के विधेयक में जो कमियां थी, उसे भी दूर नहीं किया गया है। इसलिए आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के लक्ष्य, उद्देश्यों के साथ-साथ कमियां दूर कर संशोधन विधेयक लाया जाये।

पढ़े :   ​सहरसा-हावड़ा के बीच चले एक्सप्रेस ट्रेन: कैसर

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!