लॉबी डिविजन से नीतीश कुमार ने किया विश्वासमत हासिल, पक्ष में पड़े 131 वोट

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विधानसभा में बहुमत हासिल कर लिया है। सरकार के पक्ष में 131 और विपक्ष में कुल 108 वोट पड़े। सरकार में पक्ष में जदयू, एनडीए के विधायकों ने वोट डाले। जबकि विपक्ष में राजद और कांग्रेस ने वोट किया।

जेल में बंद आरजेडी विधायक राजवल्लभ ने वोट नहीं किया। साथ ही बीजेपी के एक बीमार विधायक और कांग्रेस विधायक सुर्दशन तकनीकी कारणोें से वोट नहीं कर सके।

स्पीकर विजय कुमार चौधरी ने लॉबी डिविजन के बाद यह फैसला सुनाया है। इसके बाद राजद और कांग्रेस के विधायक सदन से वॉकआउट कर गए।

तेजस्वी ने कहा, “जिन लोगों ने बीजेपी के विरोध में वोट किया था, नीतीशजी ने उन्हें छला है। वो अपमानित महसूस कर रहे हैं। नीतीशजी बीजेपी की गोद में चले गए। हमने आज इतने सवाल पूछे, जिसका जवाब बीजेपी और नीतीश के पास नहीं था।”

“4 साल में नीतीश ने 4 सरकारें क्यों बनाईं? बिहार को जो नुकसान हुआ, उसकी भरपाई कौन करेगा? आज जो हाउस में हुआ, हमने गुप्त मतदान की मांग की थी। उनके विधायकों ने कहा था कि गुप्त मतदान होगा तो हम आपको वोट देंगे। संविधान के हिसाब से सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने के लिए बुलाया जाता है। लेकिन ऐसा नहीं किया गया।”

“जब ये हाउस में जवाब नहीं दे पाए तो जनता को क्या जवाब दे पाएंगे। तेजस्वी का बहाना बनाकर वो बीजेपी से मिल गए।”

विधानसभा में नीतीश ने कहा- “सबको आईना दिखाऊंगा। बाहर भी, अंदर भी। वोट देने वाली जनता परेशानी हो रही थी। कुर्सी राजभाेग के लिए नहीं, सेवा करने के लिए होती है। सरकार आगे चलेगी। बिहार की खिदमत करेगी। भ्रष्टाचार और अन्याय को बर्दाश्त नहीं करेंगे।”

पढ़े :   शराबबंदी के बाद बिहार में क्राइम ग्राफ तेजी से गिरा

किस पार्टी के हैं कितने विधायक ?
जेडीयू-71, बीजेपी-53, राजद-80, कांग्रेस 27, रालोसपा- 2, लोजपा-2 हम- 1, माले-3, निर्दलीय- 5

Leave a Reply

error: Content is protected !!