खुशखबरी: अब सेकेंडों में बुक होगा अॉनलाइन तत्‍काल टिकट, …जानिए

ऑनलाइन तत्काल टिकट बुक कराने वाले यूजर्स को रेलवे ने बहुत बड़ी राहत दी है। अब यूजर महज दो क्लिक के साथ ऑनलाइन तत्काल टिकट सेकेंडों में बुक कर सकते हैं।

जी हाँ पहले जहां, भुगतान होने के बाद ही टिकट कंफर्म होती थी। अब जनरल रिजर्वेशन की तरह पहले टिकट फिर पेमेंट की पॉलिसी लागू कर दी गई है।

रेलवे की इस नई सहूलियत से उपयोगकर्ता केवल दो क्लिक के साथ टिकट बुक कर सकते हैं।आईआरसीटीसी के यूजर्स अपने घर पर टिकट की डिलीवरी का विकल्प चुनकर नकद या डेबिट अथवा क्रेडिट कार्ड के द्वारा भुगतान कर सकेंगे। आईआरसीटीसी के लिए पे-ऑन डिलीवरी भुगतान प्रदाता एंडुरिल टेक्नोलाजिस प्राइवेट लिमिटेड ने बुधवार को इसकी घोषणा की।

पेमेंट गेटवे के उपयोग की जरूरत नहीं
पे ऑन डिलीवरी सेवा से पेमेंट गेटवे के उपयोग की जरूरत नहीं पड़ती। इससे उपयोगकर्ता को कुछ ही सेकेंड में बुकिंग्स करने में मदद मिलती है। इससे तत्काल कोटा के अंतर्गत कन्फमर्ड टिकट बुकिंग के अवसर बहुत ज्यादा बढ़ जाते हैं। इस बारे में एंडुरिल टेक्नोलॉजिस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अनुराग बाजपेयी ने कहा कि तत्काल टिकट्स के लिए पे ऑन डिलीवरी उन लाखों रेल यात्रियों के लिए बहुत लाभकारी होगा जिन्हें तत्काल कोटा के अंतर्गत बुकिंग करवाने की जरूरत होती है।

ऑनलाइन टिकट खरीदने वालों को लाभ
तत्काल टिकट बुक कराते समय प्रत्येक सेकेंड मूल्यवान है। हमें पूरा विश्वास है कि पहले बुक कर बाद में भुगतान करने के विकल्प को उपयोगकर्ता बड़ी संख्या में अपनाएंगे। अनुराग ने बताया कि आईआरसीटीसी के इस कदम का उद्देश्य उन लोगों को प्रोत्साहित करना भी है, जो रेलवे रिजर्वेशन काउंटर से टिकट खरीदने के बजाए ऑनलाइन माध्यम से टिकट खरीदना चाहते हैं।

पढ़े :   जल्द ही मेट्रो शहरों को टक्कर देगा बिहार का ये तीन स्टेशन

रोजाना 1.30 लाख टिकटों की बिक्री
आईआरसीटीसी से रोजाना एक लाख 30 हजार टिकटों का लेनदेन किया जाता है। इनमें से अधिकांश टिकट तत्काल के लिए बुकिंग आरंभ होने से कुछ ही मिनटों में बुक हो जाती हैं। अब तक उपयोगकर्ताओं को आईआरसीटीसी द्वारा उनका टिकट कन्फर्म करने से पहले स्टैंडर्ड ऑनलाइन पेमेंट गेटवे के माध्यम से भुगतान करना होता था। इस प्रक्रिया में कई सेकेंड्स की देरी हो जाती थी, जिसके कारण अक्सर यूजर कन्फमर्ड टिकट बुक नहीं करवा पाते थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!