बिहार: पटना सहित 15 जिलों में बनेंगे 20 पुल, …जानिए

राज्य में सड़कों का निर्माण तेजी से हो रहा है। इसके अलावा सड़कों का चौड़ीकरण का काम चरणबद्ध हो रहा है। ऐसे में विभिन्न सड़कों पर बने नैरो व डैमेज पुल की जगह नये पुल के निर्माण की योजना बनी है। पथ निर्माण विभाग ने इस साल एक्शन प्लान में 20 पुलों के निर्माण की योजना की स्वीकृति दी है।

पटना जिले के ग्रामीण इलाके में चार पुलों के निर्माण सहित 15 जिलों में पुलों का निर्माण होगा। इसमें उत्तर बिहार में नौ व दक्षिण बिहार में 11 पुलों का निर्माण होगा।

पटना में पुनपुन नदी में मसौढ़ी-पीतमास नौबतपुर रोड, शिवाला-बिहटा रोड, खगौल-नौबतपुर रोड व पाली उलार-मसौढ़ी रोड में पुल बनेंगे। इसके अलावा सीवान, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, बेतिया, किशनगंज, समस्तीपुर, खगड़िया, सुपौल, आरा, जहानाबाद, भभुआ, गया, जमुई व रोहतास में पुलों का निर्माण होना है।

पुलों के निर्माण से आवागमन की सुविधा बढ़ने के साथ दूरी में कमी आयेगी। पुलों के निर्माण पर लगभग 162 करोड़ खर्च होंगे। स्टेट प्लान मद से पुलों का निर्माण होगा।

विभाग ने स्वीकृत योजनाओं के संबंधित पथ प्रमंडल के कार्यपालक अभियंताओं को डीपीआर तैयार कर टेक्निकल अनुमोदन के बाद प्रशासनिक स्वीकृति के लिए मुख्यालय में जमा करने के लिए कहा है। अभियंताओं को डीपीआर में एप्रोच रोड के लिए जमीन अधिग्रहण सहित एस्टीमेट तैयार करना है। 60 मीटर से अधिक लंबाई के उच्चस्तरीय पुल का डीपीआर बिहार राज्य पुल निर्माण निगम को बनाना है।

पांच घंटे के लक्ष्य पर हो रहा काम
राज्य के किसी भी कोने से पांच घंटे में पटना पहुंचने के लक्ष्य पर काम हो रहा है। इस दिशा में सड़कों के निर्माण व चौड़ीकरण पर ध्यान दिया जा रहा है। विभाग पुराने पुलों को बदलने पर ध्यान दे रही है। अभी कई सड़कों पर पुराने पुल होने की वजह से हादसा की संभावना के साथ आवागमन में परेशानी हो रही है। ऐसे में पांच घंटे का लक्ष्य प्राप्त करना असंभव है। इसलिए विभाग पुराने पुलों का जीर्णोद्धार, नैरो पुल की जगह चौड़े पुल का निर्माण आदि पर जोर दे रही है।

पढ़े :   पाकिस्तान में बिहार के प्रति बढ़ा विश्वास, सरकार एवं नीतीश की वाह-वाह

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!