बिहार में बुनकरों का बनेगा फोटो पहचान पत्र, …जानिए

खादी की शुद्धता सुनिश्चित करने पर केन्द्र और राज्य सरकार का पूरा जोर है। राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय बाजार में शुद्ध खादी का बढ़ता क्रेज और मांग के मद्देनजर अब बिहार में भी खांटी हस्तकरघा उत्पादों को विकसित करने की योजना है।

इसके लिए केन्द्र सरकार के निर्देश पर बिहार में चौथे दौर का सर्वेक्षण कराया जाएगा। इसका एक मकसद हस्तकरघा से जुड़े बुनकरों को केन्द्र और राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ भी दिलाना है।

अक्सर यह शिकायतें मिल रही थीं जो बुनकर नहीं हैं, वे भी हस्तकरघा से जुड़ी योजनाओं का लाभ ले लेते थे। सर्वेक्षण में इस बात का खास तौर से ध्यान रखना है कि जो वाकई हस्तकरघा बुनकर हैं, उनका नाम सूची में शामिल होने से छूट न जाए।

सर्वे का जिम्मा जिस एजेंसी को दिया गया है, उसे सहयोग करने का निर्देश उद्योग विभाग के अधिकारियों को दिया गया है। इस बाबत हस्तकरघा बुनकर बहुल जिलों के जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक को पत्र लिखा गया है।

फर्जी नाम न जोड़ा जा सके, इसके लिए सर्वेंक्षण में शामिल बुनकरों का बकायदा फोटो पहचान पत्र बनेगा। विभाग के अपर उद्योग निदेशक (हस्तकरघा और रेशम) द्वारा इनको भेजे पत्र में कहा गया है कि एजेंसी सर्वेक्षण के आधार पर इन बुनकरों की जो प्रखंडवार सूची तैयार करेगी, उसकी जांच संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय द्वारा कराई जाएगी। इसमें दर्ज एक-एक नाम का मिलान करने के बाद ही अंतिम सूची विभाग को मुहैया कराई जाए।

पढ़े :   बिहार में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, ...जानिए

Leave a Reply

error: Content is protected !!