मोदी-आडवाणी-शाह की मौजूदगी में बिहार के पूर्व राज्यपाल कोविंद ने भरा नामांकन

बिहार के पूर्व राज्यपाल व एनडीए के राष्‍ट्रपति उम्‍मीदवार रामनाथ कोविंद ने संसद भवन में नामांकन भर दिया है। उनके साथ पीएम मोदी, वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह मौजूद थे। एनडीए शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी साथ थे।

नॉमिनेशन के पहले सेट का प्रपोजल पीएम की ओर से…
– कोविंद के नॉमिनेशन के लिए बीजेपी ने चार सेट तैयार किए। पहले सेट का प्रपोजल नरेंद्र मोदी और राजनाथ सिंह की ओर से रखा गया।
– दूसरा सेट के लिए प्रपोजल अमित शाह और अरुण जेटली ने रखा।
– तीसरे सेट का प्रापोजल शिरोमणि अकाली दल के लीडर प्रकाश सिंह बादल और वेंकैया नायडू की ओर से रखा गया। वहीं, चौथे सेट के लिए आंध्र प्रदेश के सीएम एम चंद्रबाबू नायडू और सुषमा स्वराज प्रस्तावक थे।

कोविंद ने कहा- राष्ट्रपति पद दलगत राजनीति से ऊपर है…
रामनाथ कोविंद ने नॉमिनेशन भरने के बाद कहा- “मेरे मीडिया के सभी मित्रों। 125 करोड़ वाला देश दुनिया का सबसे बड़ा लोकत्रंत है। राष्ट्रपति पद बेहद गरिमा वाला पद है। आज मैंने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए नॉमिनेशन भरा। मैं सबको विश्वास दिलाता हूं कि इसकी गरिमा बनाए रखने की कोशिश करूंगा। इस पर राजेंद्र प्रसाद, अब्दुल कलाम जैसी हस्तियां रही हैं। इसकी गरिमा बनाए रखना हमारी जिम्मेदारी है। कुछ ही सालों बाद देश आजादी के 75 साल सेलिब्रेट करने वाला है। ऐसे में भारत निर्माण के सपने को पूरा करने के लिए हमेशा प्रयासरत रहूँगा। मैं जब से बिहार गवर्नर बना तब से मेरा कोई राजनीतिक दल नहीं है। राष्ट्रपति पद दलगत राजनीति से ऊपर है। मैं पीएम, एनडीए के सभी दलों और वे दल जो एनडीए में नहीं हैं और उन्होंने भी मुझे सपोर्ट किया है मैं सबको धन्यवाद देता हूं।”

पढ़े :   आखिरी सलाम: दुनिया को अलविदा कह गईं बॉलीवुड की 'स्टार मदर' रीमा लागू

बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग 17 जुलाई होगी। काउंटिंग 20 जुलाई को कराई जाएगी। मौजूदा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का टेन्योर 24 जुलाई को खत्म होगा। अगर कोविंद चुने जाते हैं तो वे ऐसे पहले प्रेसिडेंट होंगे, जो यूपी से होंगे। देश में फिर प्रधानमंत्री-राष्ट्रपति, दोनों यूपी से होंगे। कोविंद के खिलाफ विपक्ष ने पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार को अपना दावेदार बनाया है।

क्या कहते हैं आंकड़े…
एनडीए के घटक दलों के मतों का हिस्सा 48.6 प्रतिशत है और इसके अलावा जदयू, अन्नाद्रमुक, बीजद, टीआरएस जैसे क्षेत्रीय दलों ने भी कोविंद को समर्थन देने की घोषणा की है। कोविंद को 61 प्रतिशत से अधिक मत मिलना तय माना जा रहा है।

बहुमत के लिए वोटो की संख्या – 5,49,452
एनडीए, जेडीयू और अन्य दलों के समर्थन के बाद कोविंद को मिल सकते हैं – 6,82,722 वोट
कांग्रेस, तृणमूल और अन्य दलों के बाद मीरा कुमार को मिल सकते हैं – 3,78,458 वोट

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!