बिहार में 4100 मेगावाट की रिकॉर्ड आपूर्ति, पहली बार मिली इतनी बिजली

बिहार में ट्रांसमिशन सिस्टम पर काम का परिणाम अब सामने आने लगा है। सोमवार की रात बिहार में रिकार्ड 4100 मेगावाट बिजली की आपूर्ति हुई। पहली बार बिहार में बिजली की उपलब्धता चार हजार मेगावाट के पार पहुंचा।

इसके पहले बिहार में इसी साल 2 अप्रैल को रिकार्ड 3801 मेगावाट बिजली की आपूर्ति की गई थी। हालांकि चार दिन पहले ही बिहार ने चार हजार मेगावाट का आंकड़ा पार कर लिया था, लेकिन आधिकारिक रूप से सोमवार की रात 4100 मेगावाट की नई ऊंचाई को छुआ।

उर्जा विभाग के प्रधान सचिव सह पावर होल्डिंग कंपनी के सीएमडी प्रत्यय अमृत ने बताया कि वर्ष 2006 में बिहार में 700 मेगावाट से भी कम बिजली की उपलब्धता थी। वहां से सफर शुरू करने के बाद बिहार आज 4100 मेगावाट से ऊपर पहुंच गया है।

दस वर्षों में बिहार में बिजली की उपलब्धता सात गुनी हो गई है। उस समय बिहार में मात्र 24 लाख बिजली उपभोक्ता थे जो आज बढ़कर 91 लाख से अधिक हो चुके हैं। जल्द ही सूबे में एक करोड़ बिजली उपभोक्ता होंगे। उपभोक्ताओं की संख्या बढ़ने के साथ ही बिजली की मांग भी बढ़ रही है।

बिहार में पिछले महीने अधिकतम 3769 मेगावाट बिजली की आपूर्ति हुई थी। बीती रात यह आकड़ा 4100 मेगावाट को पार कर गया। इसके कारण प्रदेश के लगभग पूरे हिस्से को भरपूर बिजली मिली। शहरी क्षेत्र को औसतन 22-24 घंटे जबकि ग्रामीण क्षेत्र को 12-14 घंटे बिजली मिली।

बिजली कंपनी इस वर्ष के अंत तक बिहार में 5000 मेगावाट बिजली की उपलब्धता का लक्ष्य लेकर चल रही है। इसी के अनुरुप ट्रांसमिशन क्षमता को मजबूत बनाने की योजना पर काम हो रहा है। इसी कार्ययोजना के तहत 30 अनुमंडलों में ग्रिड निर्माण किया जा रहा है। यह कार्य अगस्त 2017 तक पूरा हो जाएगा। इस योजना के बाद सूबे के सभी अनुमंडलों में ग्रिड हो जाएगा और बिजली का वितरण समरुप हो सकेगा। मौजूदा 30 अनुमंडलों में ग्रिडों के निर्माण के बाद सूबे की बिजली ट्रांसमिशन क्षमता में 1136 मेगावाट की वृद्धि हो जाएगी।

पढ़े :   गंगा बाबू ने मेघालय के राज्यपाल के पद की ली हिंदी में शपथ

Leave a Reply

error: Content is protected !!