शिखर पर बिहार की दो बेटियां, …जानिए

बिहार के सारण की पर्वतारोही सविता महतो ने 7120 मीटर ऊंचे त्रिशुल पर्वत पर फतह हासिल की है। सविता ने 24 दिनों में चढ़ाई पूरी की। जिले के पानापुर की निवासी सविता इंडियन माउंटेंड फाउंडेशन की ओर से चयनित 53 सदस्यीय दल में शामिल थीं। इस दल ने 29 अगस्त से उत्तराखंड में स्थित त्रिशुल पर्वत की चोटी के लिए चढ़ाई शुरू की थी।

सविता इस दल में बिहार का प्रतिनिधित्व कर रही थीं। सविता ने बताया कि एवरेस्ट मैसिफ एक्सपीडियशन के पूर्व इस दल का चयन किया गया था। इस कठिन चढ़ाई में दल ने सफलता हासिल की है। इस सफलता के बाद एक अन्य चयन प्रक्रिया होगी, जिसमें चयनित प्रतिभागी एवरेस्ट की चार चोटियों पर एक साथ चढ़ाई करेंगे।

औरंगाबाद की सौम्या ने माउंट किलिमंजारो पर फहराया तिरंगा
औरंगाबाद जिले के मदनपुर प्रखंड के तेलडीहा गांव निवासी अभय सिंह की पुत्री सौम्या सिंह ने साउथ अफ्रीका के तंजानिया स्थित माउंट किलिमंजारो पर तिरंगा लहरा कर जिला सहित देश का नाम रोशन किया है। सौम्या के साथ पर्वतारोही दल में देश के विभिन्न हिस्सों से 19 लोग शामिल थे। मिशन को छह दिनों में पूरा किया गया।

समुद्र तल से 19 हजार 341 फुट ऊपर चोटी पर तिरंगा फहराना कोई मामूली बात नहीं थी। सौम्या ने बताया कि माउंट किलिमंजारो फतह करने के दौरान सीधी चढ़ाई में उन्हें कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा। पता चला था कि विश्व की दुर्गम चोटियों में से एक किलिमंजारो को फतह करना एक बड़ी चुनौती है, पर उस चुनौती को स्वीकार करते हुए उसे मामूली बनाना हमारा लक्ष्य था। सौम्या ने बताया कि मिशन के दौरान कई प्रांतों और एनआरआइ से मुलाकात होती थी।

पढ़े :   ये बिहारी बना यूपी सीएम योगी का सचिव, जानिए

जब हम उन्हें अपने लक्ष्य के बारे में बताते थे, तो वे काफी उत्साहित हो जाते थे। वह हमसे एक ही बात कहते थे कि घबराना नहीं। जिस लक्ष्य को लेकर आप सभी अपने स्कूल कैंपस से बाहर निकले हैं, उसे पूरा करने के बाद ही लौटना। इससे देश की उपलब्धि जुड़ी है।

Leave a Reply