यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा: बिहारियों ने किया फिर से कमाल, ….जानिए

अगर इरादा पक्का हो तो संसाधन की कमी भी सफल होने से नहीं रोक सकती। संघ लोकसेवा आयोग की सिविल सर्विसेस परीक्षा 2016 के नतीजे बुधवार को आ गए। बिहार के होनहारों ने एक बार फिर परचम लहराते हुए कामयाबी हासिल की है।

यूपीएससी परीक्षा की टॉप-10 की लिस्ट में सीवान के लाल आनंदवर्द्धन ने सातवां स्थान हासिल कर बिहार का नाम रौशन किया है। आनंदवर्द्धन दरौली थाना के पुनक बुजुर्ग गांव के विष्णु दयाल मल्ल के इकलौते पुत्र हैं। उन्हें चौथे प्रयास में सफलता मिली।

दरभंगा के उत्सव कौशल को 14वां रैंक मिला है। सीएम साइंस कॉलेज के अंगरेजी के प्राध्यापक कौशल कुमार सिन्हा के पुत्र उत्सव कौशल ने यह सफलता दूसरे प्रयास में हासिल की। आइआटी, दिल्ली से बीटेक उत्सव को 2015 में 500वां रैंक मिला था।

मुजफ्फरपुर के अतरदह, इंदिरा नगर कॉलोनी के प्रभाष कुमार को 30वां रैंक मिला है। गुरुवार को उन्होंने बताया कि इसकी जानकारी उन्हें आईपीएस की ट्रेनिंग के दौरान बुधवार को मिली।

सारण के मढ़ौरा के अवारी गांव के सोमेश उपाध्याय ने 34वां रैंक हासिल किया है। उन्होंने यह सफलता दूसरे प्रयास में प्राप्त की है। वहीं, दरभंगा के प्रसिद्ध चिकित्सक व पदमश्री डॉ मोहन मिश्रा की नतिनी सौम्या झा ने पहले प्रयास में ही 58वां रैंक प्राप्त किया है। उनके पिता संजय कुमार झा आइपीएस अधिकारी, जबकि मां डॉ मातंगी झा चिकित्सक हैं। सौम्या मूल रूप से मधुबनी जिले के डुमरा गांव की रहनेवाली हैं। उन्होंने डीएवी,पटना से 10वीं की परीक्षा पास की। डीपीएस, दिल्ली से इंटर पास करने के बाद वह मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की पढ़ाई 2016 में पूरी की।

पढ़े :   दोनों आंखों से नहीं दिखता फिर भी रोज 100 बच्चों को फ्री में देते हैं शिक्षा

मधुबनी के मूल निवासी नीरज कुमार झा को 109वां रैंक मिला है। उनकी फैमिली फिलहाल धनबाद में रहती है। नीरज के पिता दामोदर वैली कार्पोरेशन में कार्यरत हैं। दरभंगा के सुमित कुमार झा ने 111वां रैंक हासिल किया है। आइआइटी, रूड़की से बीटेक सुमित को यह सफलता दूसरे प्रयास में मिली।

पटना के सन्नी राज को 132वां रैंक मिला है। उनका यह चौथा प्रयास था। एनआइटी जमशेदपुर से बीटेक पिछले साथ उन्हें आइआरएस मिला था। गया के प्रभात रंजन पाठक ने 137वां रैंक हासिल किया है। उनका यह पहला ही प्रयास था। भोजपुर के बड़हरा प्रखंड के सबलपुर गांव के नितेश पांडेय ने 141वां रैंक हासिल किया है। आइआइटी, चेन्नई से इलेक्ट्रिकल इंजिनियरिंग की पढ़ाई करनेवाले नितेश के पिता श्रीमत पांडेय भी आइएएस अधिकारी हैं। वह राजस्थान में विद्युत बोर्ड के चेयरमैन हैं।

सहरसा के चैनपुर के सत्यम ठाकुर ने 218वां रैंक लाया है। यह उनका चौथा प्रयास था। भागलपुर के कहलगांव एनटीपीसी में कार्यरत मानस वाजपेयी को 456वां रैंक हासिल हुआ है। वह मूल रूप से यूपी के रायबरेली के रहने वाले हैं। वर्तमान में वह कहलगाव एनटीपीसी में ऑपरेशन विभाग मे डिप्टी मैनेजर के पद पर कार्यरत हैं।

हाजीपुर के स्थानीय राजनरायण कॉलेज के प्राचार्य डॉ ओमप्रकाश राय के पुत्र ओंकार ने 458 वां रैंक हालिस किया है। वहीं, वैशाली जिले के सराय थाने के शेम्भोपुर गांव लालकोठी के कुंदन कुमार को 553 वां रैंक मिला है। इससे पहले कुंदन भारतीय वन सेवा (आइएफएस) की परीक्षा में पूरे देश में 9वां स्थान लाकर बिहार टॉपर बने थे।

वहीं, बरबीघा के अभिषेक कुमार को 773वां रैंक मिला है। पिछले साल उन्हें 1028वां रैंक मिला था। बांका जिले के बौंसी थाना क्षेत्र के विनोद कुमार ने 819 हासिल किया है। वर्तमान में वह बेंगलुरु में असिस्टेंट प्रोविडेंट फंड के कमिश्नर के पद पर कार्यरत हैं। वहीं बौंसी के कुशमाहा निवासी बमबम यादव ने 949वां लाया है। बमबम वर्तमान में बॉटनिकल सर्वे ऑफ इंडिया इलाहाबाद में जूनियर ट्रांसलेटर के पद पर कार्यरत हैं।

पढ़े :   दुबई के रेगिस्तान से लेकर अमेरिका के नदी के तट पर पहुंचा छठ

ये हैं टॉप 10
– नंदिनी के आर
– अनमोल शेर सिंह बेदी
– गोपालकृष्ण रोनांकी
– सौम्या पांडेय
– अभिलाष मिश्रा
– कोठामासू दिनेश कुमार
– आनंद वर्धन
– श्वेता चौहान
– सुमन सौरव मोहंती
– बिलाल मोहीउद्दीन भट

Leave a Reply

error: Content is protected !!