झारखंड की कुल जनसंख्या से भी अधिक पर्यटक पहुंचे बिहार, …जानिए

बिहार की सुरम्य वादियां, रमणीय, ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल पर्यटकों को आकर्षित कर रहे हैं। साल-दर-साल पर्यटकों के आने का रिकॉर्ड टूट रहा है। इस बार भी वर्ष 2016 की तुलना में रिकॉर्ड पर्यटक बिहार आए।

यह जानना सुकून भरा होगा कि पड़ोसी राज्य झारखंड की जनसंख्या (3.29 करोड़) से भी अधिक पर्यटकों ने बिहार का भ्रमण किया। देसी और विदेशी सैलानियों को मिलाकर 3 करोड़ 34 लाख 96 हजार 768 पर्यटक आए। यह 2016 से लगभग 14 फीसदी अधिक है। विदेशी पर्यटकों की संख्या में भी वृद्धि हुई है।

इस वर्ष भी पटना पर्यटकों के आने के मामले में शीर्ष पर रहा। यहां 75 लाख 29 हजार से अधिक पर्यटक आए। इस बार 350वें प्रकाशोत्सव का आयोजन पटना में हुआ था। जनवरी 2017 में शुरू हुआ आयोजन दिसंबर में शुकराना समारोह के साथ समाप्त हुआ। इन दोनों माह में लाखों श्रद्धालु पटना आए। दूसरे नंबर पर गया रहा। यहां 39 लाख 53 हजार से अधिक सैलानी पहुंचे।

इस बार पितृपक्ष मेला (गया) में पिछले साल की तुलना में कम श्रद्धालु पहुंचे। पिछली बार जहां 8 लाख 31 हजार से अधिक श्रद्धालु आए थे वहीं इस बार 6 लाख 35 हजार 600 ही आए। यानी लगभग दो लाख कम लोग आए। हालांकि श्रावणी मेले में आने वाले भक्तों की संख्या में इस बार ढाई लाख तक की वृद्धि हुई। इसी तरह सोनपुर मेले में भी इस बार 15 हजार 839 लोग अधिक आए।

विदेशी पर्यटकों की संख्या 70 हजार बढ़ी
विदेशी सैलानियों को भी बिहार लुभा रहा है। वर्ष 2016 की तुलना में 2017 में विदेशी पर्यटकों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। 2016 में जहां 10 लाख 10 हजार 531 सैलानी आए थे, वहीं बीते साल 10 लाख 82 हजार 705 पर्यटक आए।

पढ़े :   गुड न्यूज़! सरकार के इस टेक्नोलॉजी से आसानी से मिल जाएगा आपका चोरी हुआ मोबाइल फोन

विदेशी पर्यटकों के मामले में गया अव्वल रहा। गया में 3 लाख 13 हजार 817, जबकि बोधगया में 2 लाख 83 हजार 116 पर्यटक आए। अगर 2016 की बात करें तो यहां कुल 5 लाख 30 हजार 428 पर्यटक आए थे। नालंदा इस मामले में दूसरे व वैशाली तीसरे नंबर पर रहा। सभी जिलों ने सैलानियों का आंकड़ा पर्यटन विभाग को भेजा दिया है। जल्द ही जारी होगा।

बिहार पहुंचे पर्यटक

सालपर्यटक
201222544032
201322354141
201423373885
201528952855
201629528850
201733496768

Leave a Reply