लहू बहाने वाले हथियार अब बनेंगे उन्नत खेती के औजार, …जानिए

जिन हथियारों ने लोगों के लहू बहाए वे अब अन्न उपजाएंगे। अपराधियों से जब्त राइफल, बंदूक और कट्टे खेती के लिए हसुआ, खुरपी और कुदाल समेत कई उपकरणों में तब्दील किए जाएंगे। बिहार के पटना और नालंदा जिले में ‘क्राइम टू क्रिएशन’ योजना बनाई जा रही है जिसके तहत मालखाने में जमा हथियार लोहार की भट्ठी में गलाए जाएंगे।

मालखाने में दशकों से पड़े हैं
पटना और नालंदा ही नहीं पूरे प्रदेश के थानों में अपराधियों से जब्त हथियार मालखाने में दशकों से बंद पड़े हैं। अदालत से मुकदमे का फैसला आने के बाद भी इन्हें नष्ट नहीं किया जा सका है। इसे न तो नीलाम किया जा सकता न ही किसी को लौटाया जा सकता है। अब ऐसे हथियारों को रचनात्मक कार्य में उपयोग के लिए कृषि उपकरण निर्माण की सोच बनी है।

जब्त हथियारों की बन रही सूची
क्रिएशन योजना के तहत पटना और नालंदा जिले में थाने में जब्त कर रखे गए उन हथियारों की सूची बनाई जा रही है, जिनसे जुड़े मामलों की सुनवाई अदालत में पूरी हो चुकी है। प्रारंभ में ऐसे हथियारों को नष्ट करने के लिए संबंधित अदालत से पुलिस अनुमति लेगी। अनुमति के बाद मालखाने से निकालकर पुलिस निगरानी में लोहार की भट्ठी में गलाकर लोहा अलग कर लिया जाएगा।

किसानों को पुलिस निश्शुल्क देगी औजार
अवैध हथियारों को नष्ट कर जो लोहा निकलेगा उससे विभिन्न प्रकार के खेती के औजार तैयार किए जाएंगे। पुलिस इन्हें किसानों को मुफ्त देगी ताकि वे अन्न उपजाने में उपयोग कर सकेंगे।

कहा-पुलिस उपमहानिरीक्षक
जिन मुकदमों में फैसला आ गया, वैसे मामलों में जब्त हथियारों को अदालत से अनुमति लेकर गलाया जाएगा और खेती के लिए उपकरण का निर्माण कराया जाएगा। मुजफ्फरपुर में इसका सफल प्रयोग किया जा चुका है। अब पटना और नालंदा जिले में ‘क्राइम टू क्रिएशन’ योजना को अमल में लाने की तैयारी है।
– राजेश कुमार, पुलिस उपमहानिरीक्षक, पटना

पढ़े :   बिहार में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, ...जानिए

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!