बिहार में अमेरिका-यूरोप की तर्ज पर दौड़ेंगी 30 इलेक्ट्रिक बसें, …जानिए

अब अमेरिका, इंग्लैंड जैसे यूरोपियन देशों की तर्ज पर बिहार की राजधानी पटना में भी इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन शुरू हो जाएगा। पर्यावरण संरक्षण के दृष्टिकोण से यह बहुत बड़ा निर्णय होगा। इलेक्ट्रिक से चलने वाली ये अत्याधुनिक बसें पूरी तरह स्वचालित होंगी। इसकी बैट्री को लगातार रिचार्ज करने का भी संयत्र लगा रहेगा जिससे पॉवर कभी भी कम नहीं होगा। ये बसें पूरी तरह वातानुकूलित होंगी।

एक बस की लागत 1.67 करोड़ होगी। इसमें 60 फीसद राशि स्मार्ट सिटी के फंड से मिल जाएगी तथा शेष 40 फीसद राशि केंद्र सरकार वहन करेगी। परिवहन अधिकारियों की मानें तो इस तरह की गाडिय़ों के लिए उत्तम क्वालिटी की सड़कें बनानी होंगी। अभी केवल मुंबई व हिमाचल सरकार की ओर से इलेक्ट्रिक बसों के परिचालन की योजना बनाई गई है। दिल्ली में भी इस तरह की बसें शीघ्र चलने की संभावना है।

क्या होगी खासियत
बस की लंबाई 12 मीटर होगी तथा यह पूरी तरह से वातानुकूलित होगी। इसकी चौड़ाई 3 मीटर के आसपास होगी। इसमें 160 किलोवाट का मोटर लगा होगा। लिथियम बैट्री होगी। 28 किलोवाट की एयरकंडीशन प्रणाली होगी। इन बसों में स्वचालित दरवाजे लगे होंगे जो बस रुकने के बाद ही चालक की मर्जी से खुलेंगे। बस खुलते ही दोनों दरवाजे बंद हो जाएंगे। इनकी अधिकतम गति को नियंत्रित कर चलाया जाएगी। एक बार चार्ज करने पर बस ढाई सौ किमी तक चल सकती है।

पटना को स्मार्ट सिटी बनाने एवं पर्यावरण संरक्षण के लिए बैट्री चालित वाहनों को बढ़ावा देने की योजना है। परिवहन विभाग की ओर से राजधानी में इलेक्ट्रिक बसों को चलाने का प्रस्ताव केन्द्र सरकार को भेजा गया है। इसके लिए पर्याप्त राशि भी केन्द्र से ही मिलने की संभावना है। प्रस्ताव पर अनुमति मिलते ही इस तरह की बसों की खरीद प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

Leave a Reply