नीतीश ने किया बापू सभागार व बिहार म्यूजियम का लोकार्पण

गांधी जयंती के अवसर पर सोमवार को राजधानी पटना स्तिथ अंतरराष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर परिसर में स्थित 5000 लोगों की क्षमतावाला बापू सभागार व बेली रोड में तैयार बिहार म्यूजियम का उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया।

बापू सभागार राज्य का सबसे बड़ा सभागार होगा जहां पांच हजार लोग बैठ सकेंगे। पूरी तरह वातानुकूलित इस हॉल का एक दिन का किराया है 2.5 लाख रुपए। सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर चीन के बाद एशिया का सबसे बड़ा निर्माण है। स्टील फ्रेम से तैयार की गई है। ईंट-गारे का कम से कम प्रयोग हुआ है और अधिकतम भूकंपरोधी निर्माण है।

वहीं नवनिर्मित बिहार म्यूजियम में प्राचीनकाल से लेकर सन् 1764 तक की कलाकृतियां लोगों के अवलोकन के लिए रखी गईं हैं। म्यूजियम करीब 517 करोड़ (निर्माण एवं प्रदर्श सामग्री समेत) की लागत से तैयार हुआ है।

इस म्यूजियम में जहां एक ओर बिहार में मिली हजारों साल पुराने कलाकृतियां देखने को मिलेंगी, वहीं भारतीय इतिहास से संबंधित कई ऐसी जानकारियां होंगी, जो लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बनेंगी।

इसमें राज्य के पारंपरिक विवाह का चित्रण से लेकर छठ पूजा का विवरण, गांधी से जुड़ी पेंटिंग व म्यूजियम का इतिहास देखने को मिलेगा। म्यूजियम के सूत्रों की माने तो सम्राट चंद्रगुप्त का सिंहासन भी लोगों के लिए खास अाकर्षण का केंद्र बनेगा।

म्यूजियम में हैं कई दीर्घाएं
म्यूजियम में कई दीर्घा बनायी गयी हैं। इसमें बाल दीर्घा के अलावा बिहार के विभूतियों पर आधारित बिहारी डायसोपोरा, गांधी जी पर आधारित टेंपररी गैलरी भी बनाये गये हैं, जबकि बाल दीर्घा में बनी कलाकृतियां न केवल बच्चों को आकर्षित करेंगी, बल्कि इससे उनका ज्ञानवर्धन भी होगा।

पढ़े :   बिहार कैबिनेट का फैसला: सीएम नीतीश ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को किया खारिज, ...जानिए

बाल दीर्घा में जानवरों की एकदम सजीव दिखने वाली कलाकृतियाें को रखा गया है। इसके अलावा महापंडित राहुल सांकृत्यायन द्वारा तिब्बत से लाये गये विभिन्न दस्तावेजों को भी इस म्यूजियम में देखा जा सकता है।

म्यूजियम का हर दीर्घा अपने अाप में अनूठा है और इसमें तीन हजार से भी ज्यादा कलाकृतियों को रखा गया है। म्यूजियम में छात्र और एक्सपर्ट्स अध्ध्यन और रिसर्च भी कर सकेंगे। इसकी इसकी सबसे बड़ी खासियत है इसका अंतर्राष्ट्रीय स्तर का होना। म्यूजियम की एक और खास बात यह है कि इसमें हर तरफ हरियाली का ख्याल रखा गया है।

प्रवेश के लिए देने होंगे 100 रुपये
अंतरराष्ट्रीय स्तर के बिहार म्यूजियम का दीदार करने के लिये सौ रुपये चुकाने होंगे।

एक ही टिकट पर दर्शक पटना म्यूजियम और बिहार म्यूजियम में इंट्री कर सकेंगे। म्यूजियम के अंदर स्वाद के दिवानों के लिए भी खास व्यवस्था की गयी है। म्यूजियम के अंदर बने कैफेटेरिया में दर्शक विभिन्न प्रदेशों के भोजन का भी आनंद ले सकेंगे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!