NDA में शामिल हुआ जदयू, …जानिए

जदयू अब एनडीए का हिस्सा हो गया है। आज पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में इसपर मुहर लग गई। बैठक में पार्टी नेता केसी त्यागी ने इसका प्रस्ताव रखा जिसे सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया।

जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आज साढ़े दस बजे से पटना में मुख्यमंत्री आवास,1 अणे मार्ग पर शुरू हुई। बैठक में जदयू के सभी आमंत्रित 70 सदस्यों में से 67 सदस्य शामिल हुए। एनडीए में शामिल होने के प्रस्ताव पर मुहर लगने के बाद नेता आरसीपी सिंह ने संगठन प्रस्ताव पेश किया।

पार्टी के सदस्यों ने राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार से शरद यादव पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने को लेकर उनपर कड़ी कार्रवाई करने की बात कही, लेकिन इसे फिलहाल टाल दिया गया है। सूत्रों के मुताबिक अभी पार्टी उनकी गतिविधियों का आकलन कर रही है और संभवत: लालू यादव की 27 अगस्त की रैली के बाद ही इसपर फैसला होगा।

जदयू नेताओं ने कहा- नीतीश के साथ हैं, रहेंगे
बैठक में भाग लेने पहुंचे झारखंड के जदयू प्रदेश अध्यक्ष जालेश्वर महतो ने कहा कि झारखंड से पार्टी के सभी सदस्य नीतीश कुमार के साथ हैं। वहां शरद यादव की कोई चर्चा नहीं है। नीतीश कुमार का एनडीए के साथ जाने का फैसला बिल्कुल सही है।

वहीं, पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि पंजाब से हम सब नीतीश कुमार जी के साथ हैं। वहां शरद यादव का कोई आधार नहीं है। बिहार में एनडीए के साथ जाने का फैसला नीतीश का सही फैसला है, इससे बिहार की तरक्की होगी जो जरूरी है।

पढ़े :   प्रकाशोत्सव: पीएम मोदी व नीतीश ने खूब की एक दूसरे की तारीफ, लाइम लाइट से बेटों समेत दूर रहे लालू

समर्थकों ने कहा- जदयू का मतलब नीतीश कुमार होता है
बैठक तो सीएम आवास के अंदर चल रही थी। लेकिन मुख्यमंत्री आवास के बाहर समर्थकों का जमावड़ा लगा रहा। मुख्यमंत्री आवास के बाहर समर्थक नीतीश कुमार की जय-जयकार लगाते दिखे। सभी कार्यकर्ताओं के जुबां पर एक ही नारा था बिहार का मतलब नीतीश कुमार और जदयू मतलब नीतीश कुमार होता है। शरद यादव का कोई वजूद नहीं। नीतीश कुमार ने भ्रष्टाचार से कभी समझौता नहीं किया, इसीलिए बिहार की राजनीति का सबसे बड़ा कोई चेहरा है तो वह है नीतीश कुमार का।

समर्थकों ने यह भी कहा कि आज बिहार बाढ़ की विभीषिका से जूझ रहा है और नीतीश कुमार की वजह से ही बिहार की जनता को केंद्रीय सहायता इतने बड़े पैमाने पर तुरंत मिल गई है। अगर एनडीए के साथ जाने से बिहार को फायदा होता है और बिहार का विकास होता है तो कौन कहता है कि नीतीश का फैसला गलत है।

Leave a Reply

error: Content is protected !!