बिहार में एक साथ ‘मिनी पंजाब’ और ‘मिनी तिब्बत’ का झलक दिख रहा है, …जानिए

जी हाँ बिहार में एक साथ ‘मिनी पंजाब’ और ‘मिनी तिब्बत’ का झलक दिख रहा है। एक तरफ गया में 34 वां कालचक्र पूजा शुरू हो गया है वहीं दूसरी ओर राजधानी पटना गुरु गोविंद सिंह के 350 वें प्रकाशोत्सव से गुलजार है।

बिहार के गया में 34 वां कालचक्र पूजा शुरू गया है हो। बौद्ध धर्म गुरू दलाई लामा की उपस्थिति में नामग्याल मठ के बौद्ध भिक्षुओं ने सुत्तपाठ कर इस पूजा की शुरूआत की।

धर्मगुरु दलाई लामा के प्रवचन सुनने के लिए हज़रों की तादाद में श्रद्धालु कालचक्र मैदान में पहुचे हुए हैं। कालचक्र पूजा 14 जनवरी तक चलेगी जिसमें शामिल होने के लिए देश विदेश के एक लाख से ज्यादा बौद्ध श्रद्धालु बोधगया आये हुए हैं।

बिहार की राजधानी पटना में 350 वें प्रकाशोत्सव की भव्य तैैयारी की गई है। हजारों की तादाद में देश विदेश से पटना साहिब पहुंच रहे हैं। पांच जनवरी को खुद प्रधानमंत्री इस कार्यक्रम में शामिल होंगे।

सीएम नीतीश कुमार स्वयं कार्यक्रमों की समीक्षा कर रहे हैं। प्रकाशोत्सव की तैयारी इतनी भव्य की गयी है कि देश-विदेश में इसकी चर्चा हो रही है। पटना सिटी, कंगन घाट और गांधी मैदान में मिनी पंजाब बस गया है। लंगर के अलावा गांधी मैदान में टेंट सिटी बसाई गयी है। जहां सैकड़ों श्रद्धालु डेरा डाले हुए हैं।

पढ़े :   बिहार के पांच जिलों में बनेगा आर्ट गैलरी और ऑडिटोरियम

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!