हरतालिका तीज: ये है सुहागिनों के पर्व का महत्व, कैसे पूजन करें कि मिले पूर्ण फल

सुहागनों के लिए सबसे उत्तम व्रत है हरितालिका तीज। सुहागिनों के महापर्व के रूप में प्रचलित हरतालिका तीज भाद्रपद, शुक्ल पक्ष की तृतीया के दिन मनाया जाता है। हस्त नक्षण में होने वाला यह व्रत सुहागिनें पति की लंबी आयु तथा अविवाहित युवतियां मनवांछित वर के लिए करती हैं। इस दिन महिलाएं अपने सुहाग के दीर्घायु की कामना के 24 घंटे का निराहार और निर्जला व्रत रखती हैं।

इस दिन शिव-पार्वती की संयुक्त उपासना से अखंड सौभाग्य का आशीर्वाद मिलता है। इसलिए आज हम आपको इस दिव्य व्रत से जुड़ी कुछ अद्भुत बातें बताएंगे ताकि आप भी महादेव और मां पार्वती को प्रसन्न करके अमर सुहाग का वरदान पा सकें।

इसलिए पड़ा नाम
मान्यता है कि इस दिन को ‘हरतालिका’ इसीलिए कहते हैं कि पार्वती की सहेली उनका हरण कर घनघोर जंगल में ले गई थी। ‘हरत’ अर्थात हरण करना और ‘आलिका’ अर्थात सहेली।

पुराणों में उल्लेख मिलता है कि देवी पार्वती ने शिव को पति के रूप में पाने के लिए कठोर तप किया और वरदान में उन्हें ही मांग लिया। इसलिए हरतालिका तीज व्रत भगवान शिव और मां पार्वती के पुनर्मिलन के पर्व के रूप में मनाया जाता है।

पूजा की कथा
कहा जाता है कि एक बार देवी पार्वती ने हिमालय पर कठोर तप किया। वे शिव जी को मन ही मन अपना पति मान चुकी थीं और उनसे शादी करना चाहती थीं। उनके पिता व्रत का उद्देश्य नहीं जानते थे और बेटी के कष्ट से दुखी थे। एक दिन नारद मुनि ने आकर गिरिराज से कहा कि आपकी बेटी के कठोर तप से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु उनसे विवाह करना चाहते हैं। उनकी बात सुनकर पार्वती के पिता ने बहुत ही प्रसन्न होकर अपनी सहमति दे दी। उधर, नारद मुनि ने भगवान विष्णु से जाकर कहा कि गिरिराज अपनी बेटी का विवाह आपसे करना चाहते हैं। श्री विष्णु ने विवाह के लिए अपनी सहमति दे दी।

पढ़े :   आंध्र प्रदेश की ये महिला आईएएस अफसर भी बिहार में करती हैं छठ, ...जानिए

गिरिराज ने अपनी पुत्री को बताया कि उनका विवाह श्री विष्णु के साथ तय कर दिया गया है। उनकी बात सुनकर पार्वती विलाप करने लगीं। फिर अपनी सहेली को बताया की वे तो शिवजी को अपना पति मान चुकी हैं और उनके पिता उनका विवाह श्री विष्णु से तय कर चुके हैं। पार्वती ने अपनी सखी से कहा कि वह उनकी सहायता करे, उन्हें किसी गोपनीय स्थान पर छुपा दे अन्यथा वे अपने प्राण त्याग देंगी। पार्वती की बात मान कर सखी उनका हरण कर घने वन में ले गई और एक गुफा में उन्हें छुपा दिया। वहां एकांतवास में पार्वती ने और भी अधिक कठोरता से भगवान शिव का ध्यान करना प्रारंभ कर दिया। पार्वती ने रेत का शिवलिंग बनाया इसी बीच भाद्रपद शुक्ल पक्ष की तृतीया को हस्त नक्षत्र में पार्वती ने रेत का शिवलिंग बनाया और निर्जला, निराहार रहकर, रात्रि जागरण कर व्रत किया।

उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने दर्शन देकर वरदान मांगने को कहा। पार्वती ने उन्हें अपने पति रूप में मांग लिया। शिव जी वरदान देकर वापस कैलाश पर्वत चले गए। इसके बाद पार्वती जी अपने गोपनीय स्थान से बाहर निकलीं। उनके पिता बेटी के घर से चले जाने के बाद से बहुत दुखी थे। वे भगवान विष्णु को विवाह का वचन दे चुके थे और उनकी बेटी ही घर में नहीं थी। चारों ओर पार्वती की खोज चल रही थी। पार्वती ने व्रत संपन्न होने के बाद समस्त पूजन सामग्री और शिवलिंग को गंगा नदी में प्रवाहित किया और अपनी सखी के साथ व्रत का पारण किया। तभी गिरिराज उन्हें खोजते हुए वहां पहुंच गए। उन्होंने पार्वती से घर त्यागने का कारण पूछा। पार्वती ने बताया कि मैं शिवजी को अपना पति स्वीकार चुकी हूं। यदि आप शिवजी से मेरा विवाह करेंगे, तभी मैं घर चलूंगी। पिता गिरिराज ने पार्वती का हठ स्वीकार कर लिया और धूमधाम से उनका विवाह शिवजी के साथ संपन्न कराया।

पढ़े :   धनतेरस का मतलब क्या होता है? ....जानिए धनतेरस पर कैसे करें पूजा

जानिये कि क्या है इस व्रत की उत्तम विधि और कैसे मिलता है इस व्रत का पूर्ण फल
– सुबह संकल्प लेकर निर्जल उपवास रखना चाहिए। लेकिन सेहत ठीक ना हो तो फलाहार पर भी व्रत रख सकते हैं।
– शाम को भगवान शिव और पार्वती की संयुक्त उपासना करें, ध्यान रहे कि पूजन के समय स्त्रियों को संपूर्ण श्रंगार में रहना चाहिए।
– इसके बाद मां पार्वती को सौभाग्य की वस्तुएं अर्पित करें और उनसे अपनी मनोकामना की पूर्ति के लिए प्रार्थना करें।
– विवाहिता स्त्रियों को इस दिन अपनी सास को सौभाग्य की वस्तुएं देकर उनसे आशीर्वाद जरूर लेना चाहिए।
– भगवान शिव और मां पार्वती की संयुक्त उपासना करने के बाद ही इस व्रत का पारायण करें।
– हरतालिका तीज के दिन रात्रि जागरण करना विशेष शुभकारी होता है।

व्रत का समापन
इस व्रत के व्रती को प्रातः काल स्नान करने के पश्चात् श्रद्धा एवम भक्ति पूर्वक किसी सुपात्र सुहागिन महिला को श्रृंगार सामग्री ,वस्त्र ,खाद्य सामग्री, फल, मिठाई और यथा शक्ति आभूषण का दान कर करना चाहिए।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!