रणजी ट्रॉफी: 42 साल बाद बिहार को अपनी धरती पर मिली जीत, …जानिए

20 साल बाद घर में रणजी ट्रॉफी के मैच खेलने उतरी बिहार की टीम ने शुक्रवार को रनों के हिसाब से अब तक की सबसे बड़ी जीत से शानदार आगाज किया। मोइनुल हक स्टेडियम में खेले गए चार दिवसीय मुकाबले के तीसरे ही दिन मेजबान टीम ने सिक्किम को 395 रनों से करारी शिकस्त देकर नॉकआउट में पहुंचने की संभावना को बरकरार रखा है।

तीन मैचों में सात अंक लेकर बिहार अंक तालिका में आठवें से चौथे स्थान पर आ गया है। इस सत्र में उसका चौथा मुकाबला पटना के ऊर्जा स्टेडियम में छह दिसंबर से अरुणाचल प्रदेश से होगा। बिहार को पहले मुकाबले में उत्तराखंड से हार मिली थी, जबकि दूसरा मैच पुडुचेरी के खिलाफ बारिश के कारण ड्रॉ रहा था। इस मैच में जीत से उसे छह अंक मिले। 

इसके साथ ही बिहार ने 42 साल के बाद अपनी धरती पर जीत का स्वाद चखा है। इसके पूर्व उसने 1976-77 में पटना के मोइनुल हक स्टेडियम में ही ओडिशा को एक पारी और 226 रनों से हराया था। पटना से बाहर एकीकृत बिहार ने 19 साल पूर्व 1999-2000 सत्र में जमशेदपुर में असम को 191 रनों से हराया था, जबकि बिहार से बाहर उसने 2003-04 में नागपुर में विदर्भ को सात विकेट से हराने में कामयाबी हासिल की थी।

रनों के हिसाब से बिहार की पांच बड़ी जीत
2018-19 सत्र में पटना में सिक्किम को 395 रन से हराया
1949-50 सत्र में जमशेदपुर में ओडिशा को 356 रन से हराया
1974-75 सत्र में जोरहाट में असम को 319 रनों से हराया
1968-69 सत्र में धनबाद में ओडिशा को 287 रनों से हराया
1999-2000 सत्र में जमशेदपुर में असम को 191 रनों से हराया

पढ़े :   नेपाली सदन की नामित सदस्य चुनी गयी बिहार की बेटी, ...जानिए

Leave a Reply

error: Content is protected !!